NDTV Khabar

कश्‍मीर के अनंतनाग जिले में आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया, छह पुलिस कर्मियों की मौत

ड्यूटी से लौट रहे पुलिस कर्मियों के वाहन पर अच्छबल गांव में घात लगाकर हमला किया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्‍मीर के अनंतनाग जिले में आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया, छह पुलिस कर्मियों की मौत

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. लश्कर ने एक स्थानीय न्यूज एजेंसी को बयान जारी इस हमले की जिम्मेदारी ली है
  2. गुरुवार को भी आतंकियों के हमलों में पुलिस के दो जवान शहीद हो गए थे
  3. आतंकी कई बार जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों को धमकी दे चुके हैं
नई दिल्ली: अनंतनाग में आतंकियों द्वारा घात लगाकर किये गये हमले में जम्मू-कश्मीर पुलिस के छह पुलिसकर्मी शहीद हो गए. आतंकियों ने ये बड़ा हमला दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के अच्छाबल में किया. जब पुलिसकर्मी अपनी ड्यूटी से वापस शाम सात बजे सुमो में लौट रहे थे तब घात लगाकर बैठे आतंकियों ने पुलिस पेट्रोल टीम पर हमला बोला और अंधाधुंध फायरिंग कर 6 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी. आतंकवादियों ने पहले तो पुलिसकर्मियों को काबू किया फिर उनके चेहरे पर करीब से गोली चलाई और उनके हथियार लेकर भाग गए. पुलिसकर्मियों ने उनका बहादुरी से मुकाबला किया लेकिन वे आतंकवादियों के जाल को नहीं तोड़ पाए. पुलिसकर्मियों की हत्या करने के बाद आतंकी उनके हथियार भी लेकर चले गए. मरने वालों में अच्छाबल के एसएचओ फिरोज अहमद डार भी शामिल थे. डार के अलावा मरने वालो में कांस्टेबल शारीक अहमद, तस्वीर अहमद, शराज अहमद, मोहम्मद आसिफ, सब्जार अहमद भी शामिल हैं.
 
feroz dar sho

अपुष्ट खबरों के मुताबिक कहा यह जा रहा है कि यह हमला लश्कर के आतंकियों ने अपने कुलगाम के डिस्ट्रिक कमांडर जुनैद मट्टू की मौत का बदला लेने के लिए किया था. लश्कर के इस आतंकी को सुरक्षाबलों ने कुलगाम के अरवानी में ही ढेर कर दिया है.

टिप्पणियां
लश्कर ने कश्मीर में एक स्थानीय न्यूज एजेंसी को बयान जारी इस हमले की जिम्मेदारी ली है. बताया जाता है कि इस हमले में लश्कर के करीब 15 आतंकी शामिल थे जिन्होंने इसे अंजाम दिया है. आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में पुलिस को आतंकी लगातार निशाना बना रहे हैं. गुरुवार को भी आतंकियों ने पुलिस पर दो अलग-अलग जगहों पर हमले किए थे जिसमें पुलिस के दो जवान शहीद हो गए थे.

गुरुवार शाम आतंकवादियों ने श्रीनगर के हैदरपोरा में पुलिस गश्ती दल पर भी हमला किया था और गुरुवार को ही कुलगाम में भी आतंकियों ने पुलिस दल पर हमला किया था. इससे पहले आतंकी कई बार जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों को धमकी दे चुके हैं कि वो सुरक्षाबलों के आतंक विरोधी अभियान से दूर रहें. इसकी वजह होती है कि पुलिस के जवान स्थानीय होते हैं और उन्हें आतंकियों के हर मूवमेंट की जानकारी आसानी से मिल जाती है जो सुरक्षाबलों की कार्रवाई में काफी मददगार साबित होते हैं. वैसे हर बार अपनी जान दांव पर लगाकर पुलिस के जवान आतंक के खिलाफ कार्रवाई में आगे रहते हैं और अब तक पुलिस के हजारों जवान अपनी कुर्बानी दे चुके हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement