जम्मू-कश्मीर : केंद्र सरकार के एकतरफ़ा संघर्ष विराम के फ़ैसले के बाद हिंसा की वारदात में तीन गुना इजाफा

एनडीटीवी के पास गृह मंत्रालय के आंकड़े हैं जिससे साबित होता है कि एकतरफा युद्धविराम के दौरान हिंसक घटनाएं बढ़ी हैं.

जम्मू-कश्मीर : केंद्र सरकार के एकतरफ़ा संघर्ष विराम के फ़ैसले के बाद हिंसा की वारदात में तीन गुना इजाफा

16 मई से केंद्र की ओर से लागू किए गए युद्धविराम की घोषणा के बाद से कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं

खास बातें

  • 16 मई से लागू है संर्घषविराम
  • हिंसा में तीन गुना बढ़ोत्तरी
  • आज गृहमंत्रालय में बैठक
श्रीनगर:

जम्मू-कश्मीर  में एकतरफ़ा संघर्ष विराम के सरकार के फ़ैसले के बाद हिंसा की वारदात तेज़ी से बढ़ी है. गृह मंत्रालय के मुताबिक घाटी में हिंसा की वारदातों में तिगुना इजाफ़ा हुआ है. एनडीटीवी के पास गृह मंत्रालय के आंकड़े हैं जिससे साबित होता है कि एकतरफा युद्धविराम के दौरान हिंसक घटनाएं बढ़ी हैं. 16 मई से केंद्र की ओर से लागू किए गए युद्धविराम की घोषणा के बाद से कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं. वहीं 8 मई से 15 मई के बीच 4 घटनाएं सामने आई थीं. 

उत्तर और दक्षिण कोरिया ने दिखाया शांतिपूर्ण तरीके से हो सकता है जटिल मुद्दों का हल: महबूबा मुफ्ती

सीजफायर की घोषणा के एक हफ्ते पहले तक कोई भी आतंकी मारे जाने की घटना सामने नहीं आई थी जबकि इसकी घोषणा के बाद 4 आतंकी मारे जा चुके हैं. वहीं एक नागरिक की भी मौत हुई है. जबकि 13 घायल हुए हैं. हालांकि इस बीच पत्थरबाजी की घटनाएं कम हुई हैं.  सीजफायर की घोषणा के पहले पत्थरबाजी की 44 घटनाएं हुई थीं. जिनमें पुलवामा-6, श्रीनगर-13, शोपियां-8, अनंतनाग-2, बडगाम-2, कुपवाड़ा-4, गांदरबल-1 में एक घटना हुई है. जबकि सीजफायर की घोषणा के बाद पत्थरबाजी की 16 घटनाएं सामने आई हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वीडियो : बीएसएफ ने दिया मुंहतोड़ जवाब

आपको बता दें कि आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में आज एक इस हालात पर चर्चा के लिए ये एक उच्चस्तरीय बैठक होगी. वहीं आज सेना प्रमुख जनरल बिपिन आज कश्मीर के दौरे पर भी जा रहे हैं.