NDTV Khabar

कठुआ रेप केस : मीनाक्षी लेखी का आरोप, बीएस सलाथिया रह चुके हैं गुलाम नबी आजाद के पोलिंग एजेंट

मीनाक्षी लेखी ने कहा कि कठुआ रेप केस में भी निष्‍पक्ष जांच हुई है. एसआईटी ने छह से सात लोगों को गिरफ्तार किया है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कठुआ रेप केस : मीनाक्षी लेखी का आरोप, बीएस सलाथिया रह चुके हैं गुलाम नबी आजाद के पोलिंग एजेंट

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस नेता गुलाम बनी आजाद को निशाने पर लिया है

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के कठुआ रेप केस मामले में बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने कहा कहा है कि जम्‍मू-कश्‍मीर बार एसोसिएशन के अध्‍यक्ष बीएस सलाथिया चुनाव में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के पोलिंग एजेंट थे, इससे पता चलता है की वहां किस प्रकार की घृणात्मक राजनीति चल रही है. वहां की बार एसोसिएशन के प्रेजिडेंट सलाथिया जी एक तरफ तो न्याय की बात करते हैं दूसरी तरफ हाई कोर्ट को बंद करने की बात कर रहे है. उन्‍होंने कहा कि कठुआ रेप केस में भी निष्‍पक्ष जांच हुई है. एसआईटी ने छह से सात लोगों को गिरफ्तार किया है. 

उन्‍नाव रेप केस: BJP ने कहा, मजिस्‍ट्रेट के सामने दिए बयान में पीड़िता ने नहीं लिया था विधायक का नाम

आपको बता दें कि बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.एस. सलाथिया पर मुस्लिमों और रोहिंग्याओं के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने का आरोप है. हालांकि उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत में कहा था कि राजकीय अपराध शाखा ने न्यायालय में जिन अभियुक्तों के खिलाफ कठोर आरोपपत्र पेश किया है, वकीलों को उनका समर्थक बताने की कोशिश की जा रही है. सलाथिया ने कहा, 'जम्मू के वकीलों पर राज्य को सांप्रदायिक रूप से विभाजित करने का आरोप लगाकर बदनाम किया जा रहा है. हम सभी बस यही बोल रहे हैं कि मामले की जांच सीबीआई से कराई जाए क्या सीबीआई सांप्रदायिक है?"

टिप्पणियां
वीडियो : पीडीपी ने बुलाई अहम बैठक

सलाथिया ने कहा, "न्याय सिर्फ होना नहीं चाहिए, बल्कि दिखना भी चाहिए. यह कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारी मांगों को सांप्रदायिक बताया जा रहा है. मीडिया को ईमानदारी से खबरें बनानी चाहिए." उन्होंने कहा कि बार एसोसिएशन ने मुस्लिमों के कश्मीर घाटी या चेनाब क्षेत्र से आकर जम्मू में बसने पर कभी आपत्ति नहीं की. उन्होंने कहा, "हां, हमने रोहिंग्याओं के जम्मू में बसने पर आपत्ति दर्ज की, क्योंकि उनकी उपस्थिति से खतरा रहता है." सलाथिया ने कहा, "देश की सुरक्षा के लिए खतरा बनने वाले लोगों का विरोध करना सांप्रदायिक है, तो यही सही."
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement