NDTV Khabar

जम्मू कश्मीर में छुट्टी पर घर आए सेना के जवान का आतंकियों द्वारा अपहरण की खबर झूठी, रक्षा मंत्रालय ने जारी किया बयान

जम्म- कश्मीर के बडगाम जिले से सेना के एक जवान के लापता होने की बात की सच्चाई सामने आ गई है. शुक्रवार की शाम से लापता सेना के एक जवान को लेकर पुलिस को संदेह था कि किसी आतंकवादी संगठन ने उसका अपहरण किया होगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू कश्मीर में छुट्टी पर घर आए सेना के जवान का आतंकियों द्वारा अपहरण की खबर झूठी, रक्षा मंत्रालय ने जारी किया बयान

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. जम्मू-कश्मीर में सेना के जवान की अगवा करने की बात झूठी.
  2. रक्षा मंत्रालय ने जारी किया बयान.
  3. पहले खबर थी कि जवान को आतंकियों ने अगवा कर लिया है.
श्रीनगर :

जम्म- कश्मीर के बडगाम जिले से सेना के एक जवान के लापता होने की बात की सच्चाई सामने आ गई है. शुक्रवार की शाम से लापता सेना के एक जवान को लेकर पुलिस को संदेह था कि किसी आतंकवादी संगठन ने उसका अपहरण किया होगा. मगर यह बात पूरी तरह से गलत है. खुद रक्षा मंत्रालय ने आधिकारिक तौर पर कहा है कि सेना के जवान मोहम्मद यासीन की आतंकियों द्वारा अपहरण की खबर पूरी तरह से गलत है. वह पूरी तरह से सुरक्षित हैं और मीडिया में जो खबरें चल रही हैं, वह भी गलत है. साथ की रक्षा मंत्रालय ने ऐसी अटकलबाजियों से दूर रहने को कहा है. 

दरअसल, इससे पहले अधिकारियों ने बताया था कि जम्मू कश्मीर लाइट इंफैन्ट्री रेजीमेंट में तैनात मोहम्मद यासीन के परिवार ने पुलिस को सूचना दी कि कुछ लोग काजीपुरा चदूरा में उनके घर आए और यासीन को ले गए. यासीन छुट्टी पर घर आया था. हालांकि, अब यह साफ हो गया है कि जवान मोहम्मद यासीन का अपहरण नहीं हुआ है और वह पूरी तरह से सुरक्षित हैं. 

पाकिस्तान की ISI और अन्य आतंकी सगंठन भारतीय सेना के खाने में जहर मिलाने की रच रहे हैं साजिश


दरअसल, यासीन के किडनैप होने की अफवाह की जोर पकड़ने की वजह यह रही क्योंकि पुलवामा आतंकी हमले के बाद से जैश के ठिकानों को भारत द्वारा उड़ाए गए. इसके बाद से सेना और सैन्य ठिकाने आतंकियों के निशाने पर है. इसके अलावा, आए दिन सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ की जानकारी सामने आ रही है और सेना ने मिशन ऑल आउट को लेकर काफी हद तक कामयाबी भी हासिल कर ली है. सेना के हौसलों से घबराए आतंकी कायराना हरकत कर रहे हैं. 

टिप्पणियां

देश में बड़े आतंकी हमले का अलर्ट, इन जगहों को आतंकवादी बना सकते हैं निशाना

इससे पहले आतंकवादियों ने सेना के जवान औरंगजेब को घर से अगवा कर लिया था. औरंगजेब भी छुट्टियां बिताने अपने घर आए हुए थे. बाद में आतंकियों ने उनकी हत्या कर दी थी. साल 2017 में भी सेना के लेफ्टिनेंट उमर फैयाज का अपहरण हो गया था और हत्या कर दी गई थी. लेफ्टिनेंट भी छुट्टियां बिताने घर आए हुए थे. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement