NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद कैसे बीती पूर्व CM फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती की पहली ईद

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों-फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के लिए इस बार ईद उल अजहा का त्योहार खामोशी भरा रहा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद कैसे बीती पूर्व CM फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती की पहली ईद

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों के लिए इस बार ईद खामोशी भरी रही

खास बातें

  1. जम्मू-कश्मीर में शांतिपूर्वक मनी ईद
  2. चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल हैं तैनात
  3. एनएसए अजीत डोभाल भी हैं घाटी में मौजूद
श्रीनगर:

आज देशभर में ईद-उल-अजहा (Eid Ul Adha) है मनाई जा रही हैं. ईद के मौके पर घाटी में सुरक्षाबल पूरी तरह मुस्तैद हैं. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में सड़कें सोमवार को सुनसान दिखीं, क्योंकि श्रीनगर में कड़ी सुरक्षा प्रतिबंधों के तहत ईद-अल-अजहा मनाया जा रहा है. रिपोर्ट के अनुसार श्रीनगर की अधिकांश बड़ी मस्जिदों में ईद के नमाज की अनुमति नहीं दी गई. सरकार की तरफ से शेयर की गई तस्वीरों के अनुसार, श्रीनगर की छोटी-छोटी मस्जिदों में ईद की नमाज आयोजित की गई. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ट्वीट किया कि ईद की नमाज़ शांतिपूर्ण रही. वहीं, दूसरी तरफ, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों-फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के लिए इस बार ईद उल अजहा का त्योहार खामोशी भरा रहा क्योंकि पूर्व के वर्षों में उनके घरों में समर्थकों, दोस्तों, परिवार के सदस्यों की भीड़ लगी रहती थी.  

कश्मीर में 'खामोश' भरे माहौल में मन रही ईद, श्रीनगर की ज्यादातर बड़ी मस्जिदों में नहीं पढ़ने दी गई नमाज


अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद तीनों नेताओं को हिरासत में ले लिया गया था. सरकार की घोषणा के एक सप्ताह बाद सोमवार को शहर के पॉश गुपकर रोड पर उनके आवास सुनसान रहे. आवासों के आसपास केवल सुरक्षा गाड़ियां ही नजर आ रही थीं. अधिकारियों ने बताया कि नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला अपने आवास पर नजरबंद हैं, उनके बेटे और पार्टी के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला हरि निवास पैलेस में हैं. पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पार्टी) प्रमुख महबूबा चश्मे शाही हट में हैं. अधिकारियों ने बताया कि पांच अगस्त को जिन दूसरे नेताओं को पकड़ा गया था, उन्होंने यहां सेंटूर होटल में नमाज अदा की. सरकार ने उनके लिए एक मौलवी को भी भेजा था. 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों की दी ईद की शुभकामनाएं

टिप्पणियां

घाटी में सोमवार की सुबह मस्जिदों में ईद-उल-अजहा की नमाज शांतिपूर्ण ढंग से अदा की गई, लेकिन कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगे होने के कारण सड़कों से त्योहार की रौनक गायब रही. आपको बता दें कि आज नमाज के बाद मिठाई बांटते हुए लोगों की फोटो शेयर करते हुए गृह मंत्रालय की प्रवक्ता वसुधा गुप्ता ने ट्वीट किया, 'अनंतनाग, बारामुला, बडगाम, बांदीपोर के सभी स्थानीय मस्जिदों में ईद की नमाज बिना किसी अप्रीय घटना के अदा की गई. पुराने शहर बारामुल्ला के जामिया मस्जिद में लगभग 10,000 लोगों ने नमाज अदा की. बता दें कि सरकार की तरफ से जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के बाद से ही राज्य के बड़े हिस्से में पिछले हफ्ते से सिक्योरिटी लॉकडाउन है. अब जम्मू कश्मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाएंगे. 

VIDEO: कश्मीर के ज्यादातर इलाकों में शांति, ईद के लिए खास इंतजाम



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement