NDTV Khabar

हाथ पर मुहर लगाकर मिल रही है जम्मू-कश्मीर हाईवे इस्तेमाल करने की अनुमति, उमर अब्दुल्ला ने कहा- यह अपमानजनक

हाथ पर मुहर लगा कर मिली जम्मू-कश्मीर में हाईवे का इस्तेमाल करने की अनुमति, उमर अब्दुल्ला ने साझा की तस्वीर

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हाथ पर मुहर लगाकर मिल रही है जम्मू-कश्मीर हाईवे इस्तेमाल करने की अनुमति, उमर अब्दुल्ला ने कहा- यह अपमानजनक
नई दिल्ली:

जब से सुरक्षाबलों के काफिले को सुरक्षित मार्ग प्रदान करने के लिए जम्मू-कश्मीर-बालामूला राष्ट्रीय राजमार्ग पर आम नागरिकों की आवाजाही पर सप्ताह में दो दिन बैन करने का फैसला लागू हुआ है, उस वक्त से वहां के आम लोगों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. जम्मू-कश्मीर में राजमार्ग पर चलने की अनुमति का एक ऐसा मामला सामने आया है, जो सरकार की न्यू इंडिया, डिजिटल इंडिया जैसे दावों पर सवाल उठाते हैं. नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने एक तस्वीर साझा किया है, जिसमें एक व्यक्ति के हाथ पर मुहर लगातर राजमार्ग का इस्तेमाल करने की अनुमति दी गई है. 

महबूबा मुफ्ती की PDP और नेशनल कॉन्फ्रेंस की मान्यता रद्द करने के लिए EC में शिकायत, जानें पूरा मामला

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने एक तस्वीर साझा कर लिखा- 'जम्मू और कश्मीर में लोगों को अपने राजमार्ग का उपयोग करने की अनुमति इस तरह से दी जाती है. उनके हाथों पर मुहर लगाई जा रही है और लिखा जा रहा रहा है. मैं नहीं जानता कि मैं क्या कहूं! क्या हमें कागज बचाने के प्रयास का मजाक उड़ाना चाहिए? मैं सिर्फ लोगों के साथ किए जा रहे अपमानजनक, अमानवीय व्यवहार से नाराज हूं.'


अनुच्छेद 370 पर महबूबा मुफ्ती की चेतावनी : न समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिंदुस्तान वालों, तुम्हारी दास्तान तक भी न होगी दास्तानों में

जम्मू-कश्मीर राष्ट्रीय राजमार्ग सभी मौसम में कश्मीर को पूरे देश से जोड़ने वाला एकमात्र राजमार्ग है. सरकारी प्रशासन ने सुरक्षा बलों के काफिले को सुरक्षित मार्ग प्रदान करने के लिए 270 किलोमीटर लंबे राजमार्ग पर आम नागरिकों के लिए यातायात 31 मई तक हर सप्ताह रविवार और बुधवार को बंद रखने की घोषणा पिछले सप्ताह की थी. हालांकि सभी राजनीतिक दलों, व्यापारिक समुदाय सहित समाज के हर तबके ने इसे "जनविरोधी" और "अलोकतांत्रिक" बताते हुए इसकी आलोचना की. 

जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में आरएसएस नेता पर संदिग्ध आतंकवादियों का हमला, गार्ड की मौत

टिप्पणियां

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले और 30 मार्च को रामबन जिले के बनिहाल में राजमार्ग के पास सीआरफपीएफ के एक काफिले पर कार बम हमले के असफल प्रयास के बाद यह निर्णय निया गया है. पुतवाल हमले में बल के 40 जवान शहीद हो गए थे. अधिकारियों ने बताया कि सेना, पुलिस और सीआरपीएफ कर्मियों को राजमार्ग की ओर जाने वाले चौराहों पर तैनात किया गया है ताकि सामान्य यातायात सुरक्षा बलों के काफिले की आवाजाही में किसी भी तरह दखल ना दें. आम नागरिकों के लिए यातायात 31 मई तक हर सप्ताह रविवार और बुधवार को बंद रहेगा. एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि राज्य में चुनाव के दौरान सुरक्षा कर्मियों की आवाजाही बढ़ने के मद्देनजर यह प्रतिबंध लगाया गया है. 

VIDEO: संकल्प पत्र में जन-मन की बात​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement