NDTV Khabar

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, सभी की भागीदारी से देश के सभी शहरों को स्मार्ट बनाना है

उपराष्ट्रपति ने कहा कि बिजली आए कभी और जाए कभी, इस तरह का पुराना जमाना नहीं होना चाहिए. सभी स्थानों पर और घरों में चौबीस घंटे बिजली रहनी ही चाहिए.

6 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, सभी की भागीदारी से देश के सभी शहरों को स्मार्ट बनाना है

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू (फाइल फोटो)

रांची: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू शनिवार को झारखंड की राजधानी रांची में 'रांची स्मार्ट सिटी' के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हुए. इस मौके पर उन्होंने कहा कि देश के सभी लोगों की भागीदारी से सभी शहरों को स्मार्ट बनाना है और इसमें 'रांची स्मार्ट सिटी' एक 'लाइट हाउस' का काम करेगा. उन्होंने कहा कि सिर्फ रांची के स्मार्ट सिटी बन जाने अथवा देश में सौ स्मार्ट सिटी के निर्माण से बहुत फर्क नहीं पड़ेगा, इसलिए देश में हर एक शहर को स्मार्ट बनाना है. उन्होंने कहा कि इस कार्य के लिए जन-भागीदारी आवश्यक है और यदि सबको साथ लेकर काम किया जाएगा, तो देश के सभी शहरों को स्मार्ट बनाया जा सकेगा. नायडू ने कहा कि देश में अब स्थिति बदलनी चाहिए. बिजली आए कभी और जाए कभी, इस तरह का पुराना जमाना नहीं होना चाहिए. सभी स्थानों पर और घरों में चौबीस घंटे बिजली रहनी ही चाहिए.

यह भी पढ़ें: पीएम नरेंद्र मोदी ने स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को लेकर जाहिर की ये चिंता

उन्होंने अधिकारियों से स्मार्ट सिटी को इस प्रकार विकसित करने को कहा जहां अशुद्ध पानी का री-साइकिल हो और उससे प्राप्त जल का उपयोग बगीचों, कारखानों जैसे पीने से इतर उद्देश्यों के लिए किया जा सके. जहां कुछ इलाकों को विकसित देश की तर्ज पर 'यातायात रहित क्षेत्र' घोषित किया जाए. सौर उर्जा का अधिक से अधिक उपयोग और ऊर्जा अनुकूल सड़क की बत्तियां हों. उत्तम शिक्षा, सुचारु यातायात और स्वास्थ्य व्यवस्था उपलब्ध हो. स्मार्ट सिटी में अलग पार्किंग स्थल होना चाहिए.

VIDEO : शहरी विकास की योजनाओं में तिगुना निवेश
उपराष्ट्रपति ने कहा कि स्मार्ट सिटी के लिए स्थानीय नेता और प्रदेश के नेता का भी स्मार्ट होना आवश्यक है और झारखंडवासी भाग्यशाली हैं कि उनके पास रघुवर दास एवं सीपी सिंह का स्मार्ट नेतृत्व है. नायडू ने कहा कि स्मार्ट सिटी के लिए केंद्र सरकार के शुरुआती 500 करोड़ रुपये और स्थानीय निकाय द्वारा एकत्रित 500 रुपये मिलाकर कुल 1 हजार करोड़ रुपये से कुछ नहीं होना है, इसीलिए केंद्र की स्मार्ट सिटी को सार्वजनिक निजी साझेदारी से बनाने की योजना है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement