लॉकडाउन में बेरोजगारी भत्ता की राशि मजदूरों के खाते में डाले केंद्र सरकार: हेमंत सोरेन

झारखंड के मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव हेतु झारखंड राज्य में 22 से 31 मार्च तक के लिए किए गए लॉकडाउन के मद्देनजर मनरेगा के तहत मिलने वाली मजदूरी बेरोजगारी भत्ते के रूप में मजदूरों के खाते में डाला जाए.

लॉकडाउन में बेरोजगारी भत्ता की राशि मजदूरों के खाते में डाले केंद्र सरकार: हेमंत सोरेन

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (फाइल फोटो)

खास बातें

  • रोजगारी भत्ते के रूप में मजदूरों के खाते में डाला जाए
  • मद्देनजर मनरेगा के तहत मिलने वाली मजदूरी को देने की मांग की
  • सीएम ने इस संबन्ध में केन्द्रीय मंत्री से आग्रह किया
रांची:

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से आग्रह किया है कि कोरोना वायरस से बचाव हेतु झारखंड राज्य में 22 से 31 मार्च तक के लिए किए गए लॉकडाउन के मद्देनजर मनरेगा के तहत मिलने वाली मजदूरी बेरोजगारी भत्ते के रूप में मजदूरों के खाते में डाला जाए. एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री ने सोमवार को इस संबन्ध में केन्द्रीय मंत्री से आग्रह किया. उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के कारण राज्य के ग्रामीण क्षेत्र के गरीब परिवारों विशेषकर दिहाड़ी श्रमिकों की रोजी रोटी की चिंता राज्य सरकार को है.

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री से कहा कि महात्मा महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार योजना (मनरेगा) के तहत मजदूरों को नियमानुसार रोजगार ना दे पाने की स्थिति में उन्हें बेरोजगारी भत्ता दिए जाने का प्रावधान है. उन्होंने कहा कि वर्तमान स्थिति में सुझाव होगा कि बेरोजगारी भत्ता की यह राशि भारत सरकार द्वारा मजदूरी मद की राशि से मजदूरों को उनके खाते में उपलब्ध कराई जाए.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com