NDTV Khabar

Jharkhand Assembly Election 2019: झामुमो ने जारी किया ‘निश्चय पत्र’, पिछड़ों को 27 प्रतिशत आरक्षण देने का किया वादा

हेमंत सोरेन ने ‘निश्चय पत्र’ में सरकारी नौकरी में झारखंड के पिछड़े समुदाय को 27 प्रतिशत, आदिवासियों को 28 प्रतिशत और दलितों को 12 प्रतिशत आरक्षण देने का वादा किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Jharkhand Assembly Election 2019: झामुमो ने जारी किया ‘निश्चय पत्र’, पिछड़ों को 27 प्रतिशत आरक्षण देने का किया वादा

पार्टी के अन्य नेताओं के साथ 'निश्चय पत्र' जारी करते हुए पूर्व सीएम हेमंत सोरेन और शिबू सोरेन

खास बातें

  1. सत्ता में आने पर सरकारी रोजगार में पिछड़े वर्ग का आरक्षण बढ़ाकर 27 प्रतिशत
  2. निजी क्षेत्र में भी राज्य के ही 75 प्रतिशत लोगों को रोजगार मिलेगा
  3. आदिवासियों को 28 प्रतिशत और दलितों को 12 प्रतिशत आरक्षण देने का वादा
रांची:

राज्य के मुख्य विपक्षी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को लुभाने के लिए मंगलवार को जारी अपने ‘निश्चय पत्र' में वादा किया है कि वह सत्ता में आने पर सरकारी रोजगार में पिछड़े वर्ग का आरक्षण बढ़ाकर 27 प्रतिशत कर देगी. झामुमो ने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि निजी क्षेत्र में भी राज्य के ही 75 प्रतिशत लोगों को रोजगार मिले. बता दें, झामुमो के अध्यक्ष शिबू सोरेन और कार्यकारी अध्यक्ष तथा पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पार्टी का ‘निश्चय पत्र' नामक घोषणा पत्र जारी करते हुए यह बात कही. हेमंत ने ‘निश्चय पत्र' में सरकारी नौकरी में झारखंड के पिछड़े समुदाय को 27 प्रतिशत, आदिवासियों को 28 प्रतिशत और दलितों को 12 प्रतिशत आरक्षण देने का वादा किया.

महाराष्ट्र के हाथ से फिसलने पर बीजेपी ने झोंकी झारखंड में ताकत


इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस की ‘न्याय योजना' को एक तरह से अपनाते हुए कहा कि उनकी सरकार गरीबों को वार्षिक 72 हजार रुपये देगी. हेमंत सोरेन अपनी पार्टी की प्राथमिकताएं गिनाते हुए कहा कि अगर उनकी सरकार बनी तो बेरोजगार अधिकार कानून बनाएंगे और राज्य के निजी क्षेत्रों में 75 प्रतिशत नौकरियां स्थानीय लोगों के लिए आरक्षित करेंगे. उन्होंने कहा कि सरकारी टेंडर में 25 करोड़ रुपये तक के काम सिर्फ स्थानीय लोगों को दिए जाएंगे. भूमि अधिकार कानून बनाकर सभी स्थानीय भूमिहीनों को जमीन उपलब्ध कराई जाएगी. इसी प्रकार सरकारी नौकरी में आरक्षण का प्रतिशत बढ़ाने का भी वादा झामुमो ने किया.

LJP अध्यक्ष चिराग पासवान ने महाराष्ट्र के घटनाक्रम को बताया लोकतंत्र का मजाक

इसके अलावा ‘निश्चय पत्र' में झारखंड के स्थानीय संवर्ग वर्ग के गरीब छात्रों को निशुल्क शिक्षा और छात्रवृत्ति देने का भी वादा किया गया है. झामुमो के घोषणापत्र में झारखंड आंदोलन के दौरान शहीद हुए परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने और प्रतियोगी परीक्षा के बगैर उन्हें नौकरी देने के लिए कानून बनाने की बात कही गई है. इसके साथ ही झामुमो ने युवाओं को लुभाते हुए वादा किया कि सरकार गठन के दो वर्ष के अंदर विभिन्न खाली सरकारी पदों पर झारखंडी युवकों और युवतियों की नियुक्ति की जाएगी. नौकरी नहीं मिलने तक सभी बेरोजगार स्नातकों को 5000 रुपये तथा स्नातकोत्तर को 7000 रुपये बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा.

झारखंड चुनाव : कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, नौकरियां, कर्ज माफी और रांची में मेट्रो का वादा

हेमंत ने कहा कि सत्ता में आने पर राज्य में तीन नई उपराजधानियां पलामू, चाईबासा और हजारीबाग बनाई जाएंगी. इसके अलावा महिलाओं को सरकारी नौकरी में 50 प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा. पांच साल तक उपयोग में नहीं लाए गए अधिग्रहित भूमि को रैयतों को वापस की जाएगी. झामुमो ने घोषणा पत्र में कहा गया है कि गरीबी रेखा से नीचे रहने वाली महिलाओं को 2 हजार रुपए प्रतिमाह दिया जाएगा. इसमें कहा गया है कि गरीबों के लिए 100 यूनिट तक की बिजली मुफ्त की जाएगी. जनवितरण प्रणाली से चायपत्ती, सरसों तेल, साबुन, दाल भी दिया जाएगा. इसके अलावा कैंसर पीड़ितों के इलाज का पूरा खर्च सरकार उठाएगी.

टिप्पणियां

VIDEO: आखिर भाजपा को क्यों वोट दें लोग?: हेमंत सोरेना



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement