NDTV Khabar

झारखंड: रांची में कांग्रेस कार्यालय पर जबरदस्त मारपीट, प्रदेश अध्यक्ष ने पुलिस सुरक्षा में की बैठक

लोकसभा चुनावों में करारी हार के बाद से नेतृत्व के संकट से गुजर रही कांग्रेस पार्टी के झारखंड प्रदेश कार्यालय पर बृहस्पतिवार शाम को जबरदस्त मारपीट और गुटबाजी हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
झारखंड: रांची में कांग्रेस कार्यालय पर जबरदस्त मारपीट, प्रदेश अध्यक्ष ने पुलिस सुरक्षा में की बैठक

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. रांची में कांग्रेस कार्यालय पर जबरदस्त मारपीट
  2. मौके पर पहुंची पुलिस ने बीच बचाव कर स्थिति को संभाला
  3. प्रदेश अध्यक्ष ने पुलिस सुरक्षा में की बैठक
रांची:

लोकसभा चुनावों में करारी हार के बाद से नेतृत्व के संकट से गुजर रही कांग्रेस पार्टी के झारखंड प्रदेश कार्यालय पर बृहस्पतिवार शाम को जबरदस्त मारपीट और गुटबाजी हुई. रांची के पुलिस प्रवक्ता ने यहां बताया कि कांग्रेस के शहीद चौक स्थित प्रदेश कार्यालय पर बृहस्पतिवार शाम को विभिन्न गुटों में जमकर धक्कामुक्की और नारेबाजी हुई लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने बीच बचाव कर स्थिति को संभाला. प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता किशोर नाथ शाहदेव ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि प्रदेश कांग्रेस के इतिहास में पहली बार पार्टी के प्रदेश कार्यालय पर इस तरह का हंगामा हुआ जिससे विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी की छवि को बहुत धक्का लगा है. 

अमेरिका अफगानिस्तान से 5000 सैनिकों को वापस बुलाने की तैयारी में: रिपोर्ट


उन्होंने बताया कि पार्टी के प्रदेश कार्यालय को पुलिस की छावनी बना दिया गया जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने बताया कि इस मामले पर विचार करने के लिए पार्टी के सभी शीर्ष नेताओं की बैठक नयी दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय में तीन अगस्त को बुलायी गयी है. इससे पहले बृहस्पतिवार को जैसे ही कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार प्रदेश कार्यालय में चुनावों की तैयारी के लिए प्रदेश पदाधिकारियों के साथ पहुंचे, उन्हें वहां विरोधी गुटों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा. उनके विरोध में पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, राज्यसभा सदस्य प्रदीप बालमुचु एवं अन्य गुटों के लोगों ने जमकर हंगामा किया. विरोधी गुटों ने लोकसभा चुनाव परिणामों के लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार को दोषी ठहराया और कहा कि अब उन्हें अपने पद पर बने रहने का कोई हक नहीं है. 

बच्चों के खिलाफ यौन उत्पीड़न पर आजीवन कारावास से लेकर फांसी तक की सजा, पॉक्सो बिल में हुए ये संशोधन

इस बीच, सूत्रों ने बताया कि अजय कुमार ने पिछले सप्ताह प्रदेश कार्यालय पर अपने साथ हुई धक्कामुक्की को ध्यान में रखते हुए बृहस्पतिवार की बैठक से पूर्व पुलिस सुरक्षा मांग ली थी और पूरी पुलिस सुरक्षा में वह प्रदेश कार्यालय में दाखिल हुए. इतना ही नहीं अपने विरोधी गुटों के प्रमुख नेताओं को भी उन्होंने पुलिस की मदद से प्रदेश कार्यालय में प्रवेश नहीं करने दिया जिसके चलते आम कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं में भारी रोष था. इस बीच, एक स्थानीय मीडियाकर्मी ने भी कांग्रेस कार्यालय पर हुए इस विवाद में चोट लगने की शिकायत की है जिसका कांग्रेस पदाधिकारियों ने खंडन किया है.

टिप्पणियां

VIDEO: महाराष्ट्र: मुश्किल में कांग्रेस-एनसीपी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement