NDTV Khabar

आदिवासी छात्रा की निर्वस्त्र तस्वीर वायरल करने के मामले में वार्डन को बर्खास्त करने की अनुशंसा

महिला आयोग ने वार्डन को ठहराया दोषी, छात्राओं ने पीड़िता से मारपीट कर मोबाइल फोन चोरी करने की बात जबरन कबूल करवाई

95 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
आदिवासी छात्रा की निर्वस्त्र तस्वीर वायरल करने के मामले में वार्डन को बर्खास्त करने की अनुशंसा

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. छात्रा को निर्वस्त्र करके उसके गले में मोबाइल फोन टांगकर उसकी तस्वीर ली
  2. महिला आयोग के दो दल ने पीड़िता के माता-पिता का बयान दर्ज किया
  3. एसपी महिला कॉलेज से हटाई गईं प्राचार्या डॉ रेणुकानाथ से भी पूछताछ
दुमका: एसपी महिला कॉलेज की एक आदिवासी छात्रा को मोबाइल चोरी के आरोप में निर्वस्त्र करके उसकी तस्वीर लेने व उसे वायरल करने के मामले की जांच के बाद राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण ने बुधवार को दुमका में कहा कि इस पूरे में मामले में सबसे ज्यादा दोषी छात्रावास की वार्डन अंजु मुर्मू है. सब कुछ उनकी जानकारी में हुआ इसलिए उन्हें तत्काल बर्खास्त किया जाना चाहिए.
 
शरण ने कहा कि जांच में पता चला है कि छात्रावास में रहने वाली छात्राओं ने पीड़िता से मारपीट कर मोबाइल फोन चोरी करने की बात जबरन कबूल करवाई और फिर उसे निर्वस्त्र करके उसके गले में मोबाइल फोन टांगकर उसकी तस्वीर ली और फिर अपने दोस्त को बुलाया जिसने उक्त तस्वीर वायरल कर दी.
 
अध्यक्ष समिति के दो सदस्यों के साथ सबसे पहले पीड़िता के घर पहुंचीं जहां पीड़िता एवं उसके माता-पिता का बयान दर्ज किया गया. इसके बाद आयोग की टीम एसपी महिला कालेज पहुंची और डॉ रेणुकानाथ से पूछताछ की, जिन्हें प्राचार्य पद से हटा दिया गया है.

यह भी पढ़ें :  महाराष्ट्र : वे महिला को निर्वस्त्र करके घुमाते रहे, उसकी पिटाई करते रहे और लोग देखते रहे

महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा कि कॉलेज एवं हॉस्टल में अनुशासन की बहुत कमी है. छात्रावास में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हुए हैं, सुरक्षागार्ड भी लापरवाह हैं. आयोग की टीम में जिला प्रभारी आरती राणा एवं सदस्य शर्मिला सोरेन शामिल थीं.
 
यह भी पढ़ें : उल्हासनगर : 2 रुपये की मिठाई चुराने के आरोप में बच्चों के साथ की बर्बरता, निर्वस्त्र करके परेड करवाई

घटना को लेकर सिदो कान्हु मुर्मू विश्वविद्यालय ने एसपी महिला कालेज की प्राचार्या डॉ रेणुकानाथ को उनके पद से हटा दिया है. कॉलेज के संस्कृत विभाग की विभागाध्यक्षा डॉ सुश्मिता बोस को कालेज की नई प्राचार्या बनाई गई हैं. कुलपति डॉ मनोरंजन प्रसाद सिन्हा ने यह जानकारी देते हुए कहा कि किसी भी शैक्षणिक संस्थान में ऐसी घटना दुर्भाग्यपूर्ण है.

VIDEO : छात्राओं को निर्वस्त्र किया


इधर दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार ने बताया कि गृह विभाग की ओर से पीड़ित छात्रा को बुधवार को 50,000 रुपये की सहायता राशि का चेक दिया गया है. उपायुक्त ने कहा कि इस तरह की अमानवीय घटना से जुड़े सभी दोषियों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी. दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा. उपायुक्त ने जानकारी दी कि मनोचिकित्सक द्वारा पीड़िता की काउंसलिंग कराई जाएगी ताकि उसे इस घटना से उबरने में मदद मिल सके.
(इनपुट एजेंसियों से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement