NDTV Khabar

कोलकाता : पुलवामा हमले के बाद कश्मीरी मूल के डॉक्टर को मिली शहर छोड़ने की धमकी, बेटियां स्कूल में उपेक्षित

कोलकाता में पिछले 22 वर्ष से रह रहे एक कश्मीरी डॉक्टर ने दावा किया है कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद उन्हें शहर छोड़ने या फिर ‘गंभीर परिणाम’ भुगतने की धमकी दी जा रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कोलकाता : पुलवामा हमले के बाद कश्मीरी मूल के डॉक्टर को मिली शहर छोड़ने की धमकी, बेटियां स्कूल में उपेक्षित

पुलवामा हमले के बाद कश्मीरी मूल के डॉक्टर को लगातार धमकिया मिल रही हैं. (फाइल फोटो-पुलवामा हमला)

नई दिल्ली :

पुलवामा हमले के बाद देश के तमाम हिस्सों में कश्मीरी मूल के लोगों को डराने-धमकाने और मारपीट की खबरें आ रही हैं. ताजा मामला कोलकाता का है. यहां पिछले 22 वर्ष से रह रहे एक कश्मीरी डॉक्टर ने दावा किया है कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद उन्हें शहर छोड़ने या फिर ‘गंभीर परिणाम' भुगतने की धमकी दी जा रही है. साथ ही डॉक्टर की बेटियों को स्कूल में उपेक्षा का सामना करना पड़ रहा है. डॉक्टर की नौ और सात वर्षीय दो बेटियां हैं, जो शहर के एक बड़े अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ती हैं. इस मामले में पश्चिम बंगाल राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष अनन्या चक्रवर्ती ने कहा कि स्कूल में दोनों बच्चियों के दोस्तों ने उन्हें अलग-थलग कर दिया है. चक्रवर्ती ही डॉक्टर और उनके परिवार की सुरक्षा सुनश्चित कर रही हैं. उन्होंने कहा कि डॉक्टर ने मुझे बताया कि उनकी बेटियों के दोस्त उनसे सही से बात नहीं कर रहे. मैंने उनसे परेशान ना होने को कहा है. मैंने स्कूल अधिकारियों से बात की है और उन्होंने कहा कि वह मामले में हस्तक्षेप करेंगे. उन्होंने बताया कि बच्चियों के साथ स्कूल जाने वाले कुछ बच्चों ने उनके साथ जाना बंद कर दिया है. कुछ ने उनसे बात करना भी बंद कर दिया है. 

वीवी वसंत कुमार ने पत्नी को भेजी थीं कोहरे की तस्वीरें, कहा- पहुंचने में थोड़ी देर और लगेगी, लेकिन...


दूसरी तरफ, नाम उजागर ना करने के अनुरोध पर सोमवार को डॉक्टर ने बताया था कि उन्हें तंग किया गया, लेकिन उन्होंने शुरुआत में धमकियों पर कोई ध्यान नहीं दिया. लेकिन चिंता तब बढ़ गई जब कुछ लोगों ने उनके घर के बाहर इकट्ठे होकर उनके पाकिस्तान ना जाने पर उनकी बेटी को नुकसान पहुंचाने की धमकी दी. उन्होंने बताया कि पुलवामा हमले के एक दिन बाद 15 फरवरी को उनके (डॉक्टर के) घर लौटने के बाद 20 से 25 वर्ष की आयु के पांच व्यक्ति उसके घर पहुंचे और उन्हें तुरंत शहर छोड़ने की धमकी देते हुए कहा, ‘‘पाकिस्तान वापस जाओ क्योंकि कश्मीरियों के लिए इस देश में कोई जगह नहीं है''. डॉक्टर ने कहा कि इस बार धमकी गंभीर लगी और उन्होंने शहर छोड़ने का मन बना लिया था लेकिन उन्होंने इससे पहले पश्चिम बंगाल सरकार से सम्पर्क करने का फैसला किया. इसके बाद पश्चिम बंगाल राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष अनन्या चक्रवर्ती ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने का आश्वासन दिया था. 

पुलवामा हमले पर भड़के कुमार विश्वास, कहा- कंठ में कोई गीला गोला सा अटक रहा है...

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को सीआरपीएफ (CRPF) के एक काफिले पर आत्मघाती हमला हुआ था, जिसमें इस अर्धसैनिक बल के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे और कई घायल हुए थे. इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान बेस्ड आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. इसके बाद भारत ने पाकिस्तान पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत सरकार ने शनिवार को एक और कड़ा कदम उठाते हुये पाकिस्तान से आयातित होने वाले सभी सामानों पर सीमा शुल्क तत्काल प्रभाव से बढ़ाकर 200 प्रतिशत कर दिया. पाकिस्‍तान से एमएफएन का दर्जा वापस लिये जाने के बाद वहां से आयात होने वाली सभी वस्‍तुओं पर 200 फीसदी का सीमा शुल्‍क तत्‍काल रूप से लागू हो गया है. (इनपुट-भाषा से भी)

पंजाब और राजस्थान के बाद अब हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ ने पाकिस्तानी क्रिकेटरों की तस्वीरें हटाईं

टिप्पणियां

VIDEO: जम्मू कश्मीर में CRPF काफिले पर आतंकी हमला, 40 जवान शहीद

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement