Budget
Hindi news home page
होम | लाइफस्टाइल

लाइफस्टाइल

  • ज्यादा शर्करा के सेवन से हो सकता है अल्जाइमर : अध्ययन
    अत्यधिक शर्करा वाले भोजन करने वाले लोगों पर अल्जाइमर नामक बीमारी का खतरा बढ़ सकता है. यह चेतावनी एक नए अध्ययन में दी गई है. ब्रिटेन के बैथ विश्वविद्यालय और किंग्स कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने पहली बार रक्त शर्करा ग्लूकोस और अल्जाइमर बीमारी के बीच एक अहम आणविक संबंध की पहचान की है.
  • अगर बनना है शादी की महफिल की जान, तो यूं करें अपनी ज्‍वेलरी का सेलेक्शन
    शादी से जुड़े इवेंट में पहनने के लिए सही ज्‍वेलरी का चुनाव करना बेहद जरूरी है, क्योंकि एक भी गलत चुनाव आपके पूरे लुक को खराब कर सकता है. अगर आप चाहती हैं कि शादी चाहे जिसकी भी हो पर पार्टी की जान आप ही बनें और सबकी निगाहें आपसे न हटें तो ज्‍वेलरी सेलेक्‍ट करते समय खास सावधानी बरतें. आप व्हाइट गोल्ड में हीरा और पन्ना जड़ित हार या यलो सैफायर जड़ित हार पहन सकती है, जो आपके व्यक्तित्व में चार चांद लगाएगा.
  • Mahashivratri 2017: महाशिवरात्रि पर न रहें भूखा, ट्राई करें ये डिशेज
    महाशिवरात्री के मौके पर घर-घर में लोग व्रत रखते हैं. भगत पूरी श्रद्वा से भगवान शिव की आराधना करते हैं. इतना ही नहीं कुछ लोग तो इसके लिए कई दिनों पहले से इसकी तैयारी शुरू कर देते हैं. व्रत के लिए मार्केट में कई तरह की चिप्‍स, नमकीन आने शुरू हो जाते हैं. पर अगर इस बार आप कुछ घर का बना खाना खाना चाहते हैं और अपने व्रत को बोरिंग की बजाए मजेदार बनाना चाहते हैं तो इन डिश को ट्राई जरूर करें.
  • क्‍या आप हैं एक कन्फ्यूज ब्राइड!
    शादियों का सीजन शुरू हो चुका है। ऐसे में शादी से पहले की शॉपिंग के दौरान हम कई ऐसी चीजें खरीद लेते हैं, जिनकी शायद बाद में हमें ज़रूरत नहीं होती।
  • हेल्‍दी स्किन के लिए इन तेलों का करें इस्तेमाल
    तेल हमारी स्किन में चमक बरकरार रखने और उसे स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. जोजोबा और कैंलेंडुला के सत्व वाले तेल आपकी त्वचा पर न केवल चमत्कारी असर दिखाते हैं बल्कि इसे स्वस्थ भी बनाए रखते हैं. बच्चों के लिए पहला टॉक्सिन-फ्री उत्पाद पेश करने वाले होनासा कंज्यूमर प्राइवेट लिमिटेड के 'मामाअर्थ' ब्रांड की सह-संस्थापक गजल अलघ ने त्वचा के लिए आवश्यक तेलों के ये फायदे बताए हैं -
  • '90 बॉर्न किड' हैं आप, तो हफ्ते में ज़रूर करें ये काम...
    अब पूरे परिवार के साथ बैठकर महाभारत कौन देखता है? अब दोस्तों के साथ मिलकर शक्तिमान जैसे सुपरहीरो के मूव्ज कॉपी करने के खेल कौन खेलता है? अब आप और हम कितनी दफा किसी को खत पोस्ट करते हैं? न्यू ईयर या जन्मदिन पर आजकल के बच्चे ग्रीटिंग कार्ड भेजते हैं क्या?
  • रहना है फिट और हेल्‍दी तो रेगुलर करें एक्‍सरसाइज
    नियमित कसरत से सोचने, सीखने और फैसला करने की कुशलता तेज होती है और यह स्थिति ज्यादा उम्र तक बनी रहती है. इस तरह नियमित व्यायाम से 24 खतरों को दूर किया जा सकता है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "वैज्ञानिक शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग नियमित रूप से कसरत करते हैं, वे शारीरिक और मानसिक रूप से ज्यादा सेहतमंद होते हैं, उनमें ज्यादा ऊर्जा, सोचने की स्पष्टता होती है और नींद बेहतर आती है.
  • क्‍यों होता है बच्‍चों में मोटापा, क्‍या है इसके कारण, जानें
    आप अपने बच्चों के बढ़ते कमर को लेकर चिंतित हैं तो अपने मोटापे के स्तर को जिम्मेदार मानिए. एक नए अध्ययन में सामने आया है कि बच्चे करीब 35 से 40 फीसदी अपने माता-पिता के शरीर के बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) से मोटापा विरासत में पाते हैं. यह इस पर निर्भर करता है उनके माता पिता कितने दुबले या मोटे हैं. शोध के निष्कर्षो से पता चलता है कि ज्यादा मोटापे वाली श्रेणी के बच्चे, जिनमें यह अनुपात 55-60 फीसदी तक बढ़ जाता है. इनमें यह प्रवृत्ति अनुवांशिक या परिवार के वातावरण से निर्धारित होती है.
  • सावधानी से लें होली का आनंद
    रंगों का त्योहार होली देशभर में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है, लेकिन रंगों से बाल खराब होने और त्वचा में जलन होने का खतरा भी बना रहता है, इसलिए होली खेलते वक्त कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए. काया लिमिटेड (चिकित्सा सेवा व अनुसंधान एवं विकास) की उपाध्यक्ष और प्रमुख संगीता वेलासकर ने रंग खेलने के दौरान बालों, त्वचा और नाखूनों की देखभाल के संबंध में ये सुझाव दिए हैं:
  • जानें, आपकी ‘बेस्‍टी’ की शादी क्‍यों है आपके लिए सबसे खास..
    जब आपकी दोस्‍त ने मैडल जीता तो उस खुशी को सेलिब्रेट करने वालीं सबसे पहली सहेली आप ही थीं, जब उसके पैरेंट्स ने उसकी शिकायत की तो उसका साथ देने वालीं भी आप ही थीं... ये वो लोग ही हैं जो आपके दिल के सबसे करीब हैं. ऐसे में अचानक आपको खबर मिले कि आपकी दोस्‍त की शादी होने वाली है. यकीनन आप काफी हैरान हो जाएंगे. पर मैडम परेशान न हो शादी भले ही उसकी हो लेकिन ये इवेंट आपके लिए भी बेहद खास है, कैसे, जानिए
  • अगर आपको भी है चुइंग गम खाने की आदत, तो हो सकता है ये नुकसान
    अगर आपको भी हर वक्‍त चुइंग गम चबाने की आदत है तो इसे तुरंत बदल दें, क्‍योंकि लगातार इसको खाने से आपके पाचन तंत्र पर इसका असर पड़ सकता है. चुइंग गम से लेकर ब्रेड तक में डाले जाने वाले संरक्षक पदार्थो से छोटी आंत की कोशिकाओं के पोषक पदार्थो के शोषित करने की क्षमता और रोगाणुओं को रोकने की क्षमता में कमी आ सकती है.
  • बदलते मौसम का नहीं होगा आपकी स्किन पर असर, अगर अपनाएंगे ये टिप्‍स
    कुछ दिनों पहले तक लग रहा था कि गर्मियां आने में अभी वक्‍त है लेकिन अचानक धूप की तपिश ने लोगों को जलाना शुरू कर दिया है. जिसका असर हमारी स्किन पर पड़ता नजर आने भी लगा है. स्किन ड्राई होने लगी है, जब आपकी त्वचा बदलती हुई जलवायु के अनुरूप अपने को ढाल रही होती है, तब मौसमी बदलाव के अनुकूल होना इसके लिए मुश्किल हो जाता है.
  • घरेलू उपचार से सर्दियों को यूं कहें अलविदा, रहेंगे फिट और हेल्दी
    कड़ाके की ठंड भले ही पड़ना बंद हो गई है, लेकिन सामान्य सर्दी अभी बनी रहेगी. इस मौसम में तेज ठंडी हवाएं भी चलती हैं. मौसम में बदलाव होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और सर्दी हो जाने के आसार बढ़ जाते हैं, ऐसे में घरेलू उपायों से सर्दी का मुकाबला किया जा सकता है.
  • बालों को बनाना चाहते हैं मजबूत और खूबसूरत, अपनाएं ये आसान टिप्स
    फैशन के मामले में आजकल युवतियां और महिलाएं अपने बालों के साथ नए प्रयोग कर रही हैं, बालों को रंगने, ब्लीच करने और स्टाइल करने से बाल रुखे और दोमुंहे हो सकते हैं, इसलिए ऐसी समस्याओं से बचने के लिए शहद, एग मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए. बालों को खूबसूरत बनाए रखने के संबंध में 'एडवांस्ड हेयर स्टूडियो' के हेयर एक्सपर्ट्स ने ये सुझाव दिए हैं.
  • अपने वेडिंग गेस्‍ट को रखना है खुश, तो इन 5 टिप्‍स को जरूर अपनाएं
    शादियों के इस सीजन में घरों में मेहमानों का आना-जाना तो लगा ही रहता है. देश में और देश के बाहर से कई गेस्‍ट घर में आते हैं. ऐसे में किसी को घर की डेकोरेशन पसंद नहीं आती तो कोई खाने से खुश नहीं होता. तमाम तैयारियों के बावजूद कई गेस्‍ट खुश नहीं हो पाते. ऐसे में आइए जानते हैं शादी के माहौल में अपने गेस्‍ट को कैसे रखा जाए खुश.
  • दिल के रोगों के लिए खतरा है ई-सिगरेट
    ई-सिगरेट को पुरानी सिगरेट की तुलना में कम खतरनाक होने की सोच के साथ ज्यादा प्रचलित किया जा रहा है, क्योंकि इसमें खतरनाक धुआं, टार और कार्बन मोनोऑक्साइड नहीं होता. लेकिन ई-सिगरेट से होने वाले दिल और फेफड़ों के रोग के खतरे सामने आ रहे हैं.
  • पाना चाहते हैं पिंपल से छुटकारा, तो इन आदतों से बनाएं दूरी
    पिंपल आज के दौर की सबसे आम समस्‍या है, जिससे हर दूसरा व्‍यक्ति परेशान है. पिंपल ने केवल आपकी खूबसूरती में ग्रहण लगाते हैं बल्कि आपकी पर्सनालिटी की भी इफेक्‍ट करते हैं. चेहरे को सही से न धुलना व साफ न करना और अधिक मात्रा में तेल, दूध, घी जेसे के सेवन से आपके चेहरे पर मुहांसे निकल सकते हैं. आइए जानते हैं अश्योर क्लीनिक के कॉस्मेटोलॉजिस्ट अभिषेक पिलानी से मुहांसे होने के लिए जिम्मेदार कारणों के बारे में:
  • हर मौके के लिए न रखें एक ही जैसे शूज
    डेट पर या ऑफिशियल मीटिंग पर जाने से पहले अक्‍सर हम अपनी ड्रेस और मेकअप पर ज्‍यादा ध्‍यान देते हैं. लेकिन क्‍या कभी आपने सोचा है कि इस दौरान यह देखना भी जरूरी है कि आपके जूते सही हैं या नहीं. क्योंकि जूते आपकी पर्सनालिटी का महत्वपूर्ण कारक हैं. सीआरओसीएस ब्रांड फूटवियर की ई-वाणिज्य और डिजिटल विपणन प्रबंधक भावना तिवारी ने फैशन में चल रहे जूतों पर कुछ सुझाव साझा किए हैं.
  • भारतीय युवाओं का पसंदीदा हनीमून डेस्टिनेशन बन रहा है वियना
    ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना भारतीय लोगों के लिए पसंदीदा हनीमून डेस्टिनेशन बनता जा रहा है. वियनो को इस साल भारत से पहुंचने वाले पर्यटकों, खास तौर से युवा पर्यटकों की संख्या में 20 से 30 प्रतिशत के इजाफे की उम्मीद है. वियना अपने शाही इतिहास और भव्य महलों के लिए जाना जाता है.
  • मीनोपॉज से रहें हैं गुजर, तो रखें इन बातों का ध्‍यान
    मीनोपॉज (रजोनिवृत्ति) की शुरुआत या पेरीमीनोपॉज अनियमित मासिक धर्म और अंतिम मासिक धर्म के बीच की अवधि होती है. इस दौरान जनन प्रक्रिया के आवश्यक हार्मोन में बदलाव होते हैं, जिससे मासिक धर्म में अनियमितता, प्रजनन क्षमता में कमी, वसोमोटर के लक्षण एवं अनिद्रा जैसी समस्या हो सकती है. एक शोध में पेरीमीनोपॉज सिंड्रोम और मूड डिसआर्डर की गंभीरता से गुजर रही महिलाओं पर पड़ने वाले प्रभाव और खतरों का अध्ययन किया गया है. इन दोनों से उम्र, कब्ज, मेनुस्ट्रेशन, व्यक्तित्व की खासियतें और कामकाजी स्तर बेहद अहम भूमिका निभाते हैं. इसलिए इस हालात को गंभीरता से संभालना आवश्यक होता है.

Advertisement

Advertisement