NDTV Khabar

लवशुदा हैं आप, तो बताइये आपका प्यार इनमें से कितने स्टेज कर चुका है पार !

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लवशुदा हैं आप, तो बताइये आपका प्यार इनमें से कितने स्टेज कर चुका है पार !

प्रतीकात्मक तस्वीर

''इश्क के सात मुकाम: दिलकशी, उन्स, मोहब्बत, अकीदत, इबादत, जुनून और मौत'' 
आसान से शब्दों में कहें तो प्यार के 7 स्टेज होते हैं: आकर्षण, जुड़ाव, प्यार, भरोसा, पूजा, जुनून और मौत


बाप रे!!! इतने लेवल्स के बारे में एक सांस में बोल पाना मुश्किल है, लोग इन्हें जी भी लेते हैं!

इश्क से जुड़ी इस बात से वाकिफ होने बाद मेरा कुछ यही रिएक्शन था. ऐसा इसलिए क्योंकि इंस्टेंट नूडल की आदि हो चुकी आज की जेनरेशन (जिसका एक हिस्सा मैं खुद हूं ) के पास शायद न तो इतनी फुर्सत है और न ही सब्र कि अपने रिलेशनशिप पर इतना गौर फरमाए. 

लेकिन फिर भी, अगर आपको अपनी लव लाइफ को टेस्ट करना हो, तो इसे 5 स्टेज में बांट कर भी देख सकते हैं-

स्टेज-1:  कुछ तो हुआ है कुछ हो गया है
लव एट फर्स्ट साइड, क्रश, वो पहली बार जब हम मिले...वगैरह वगैरह टाइप की चीज़ें  इसी स्टेज में होती है. हालांकि कई मामलों में ऐसा भी होता है कि दो लोग एक दूसरे को जानते तो हैं, लेकिन उनके बीच प्यार लंबे वक्त बात होता है.  कुल मिलाकर ये स्टेज फीलिंग वाली स्टेज होती है. प्यार की शुरुआत तब होती है जब आप किसी के लिए कुछ खास महसूस करने लगते हैं.  उस शख्स की हर बात आप पर असर करने लगती है. बोले तो, आप खुद को किसी बॉलीवुड हीरो-हिरोइन से कम नहीं समझते...

स्टेज-2: एक हो गए हम और तुम...
अपनी फीलिंग्स कन्फेस करने की रस्म अदायगी इसी स्टेज में होती है. इस स्टेज में कदम रखने के बाद कपल्स सोशल मीडिया पर पीडीए शुरू कर देते हैं, डिस्प्ले पिक सिंगल से डुअल हो जाती है, लड़कियों के दो-दो सरनेम हो जाते हैं, लड़कों के लिए सोलो-ट्रिप पर जाने जैसी बात खुदगर्जी मानी जाने लगती है, वगैरह वगैरह...
 
gerua

स्टेज-3: तेरा इमोश्नल अत्याचार....
ये है सबसे मुश्किल पड़ाव. इसे पार किया तो समझो प्यार मुकम्मल हुआ. इस स्टेज में आकर कपल्स को पार्टनर की हर गुजारिश इमोश्नल अत्याचार ही लगती है. उन्हें ऐसा लगने लगता है कि शायद वे दोनों एक दूसरे के वो सोल मेट नहीं हैं जिसे ऊपरवाले ने बनाया है. यही से होती है शुरुआत झगड़े और नाराज़गी की. दोनों को एक दूसरे की कमियां नज़र आने लगती हैं. ब्रेकअप/डिवोर्स वाला स्टेज यही होता है. यानी लाइ वी न गई, ते निभाई भी न गई...

स्टेज-4: तू जो नहीं है तो कुछ भी नहीं है, ये माना कि महफिल जवां है, हंसी है...
इस स्टेज में वो खोया हुआ प्यार, वो पुरानी फिलिंग्स कमबैक करती हैं. आपको एहसास होता है कि जिससे आपने कुछ दिन पहले ब्रेकअप किया और सोशल मीडिया पर ब्लॉक तक कर डाला वो असल में आपके लिए क्या मायने रखता था/रखती थी.
 
ae dil hai mushkil

स्टेज-5: ...तेरे बिना गुज़ारा ऐ दिल है मुश्किल
'उसके शरीर में मेरी रूह कैद है...', 'मैं उसके लिए अपनी जान भी दे सकता हूं' टाइप्स की फीलिंग जब आने लगे तो समझो प्यार पूरा. अब बस उसे निभाते चले जाना है. अगर आप दोनों को तमाम झगड़े-शिकायतों, ब्रेकअप-पैचअप के बाद ये यकीन हो जाए कि चाहे जो हो जाए आपका साथी आपका साथ कभी नहीं छोड़ेगा और जिसपर आप खुद से भी ज्यादा भरोसा करते हैं, तो समझो आपने प्यार पूरा कर लिया. इस स्टेज में आने के बाद कपल्स एक दूसरे के प्रति ईमानदार और पूरी तरह समर्पित होते हैं. और भले ही गलती आपके पार्टनर की ही क्यों न हो , उसपर उंगली उठाने वाले का मुंह तोड़ने के लिए भी आप स्टैंड बाई पर रहते हैं...

टिप्पणियां
अब अगर आपका मामला भी कईयों की तरह तीसरे पायदान पर ही अटका हुआ है, तो थोड़ी और कोशिश करिये. अगर वो फिसल कर चौथे पर आ गया तो समझो वो सच्चा है, वर्ना दिल तो अभी भी आपका बच्चा है!!!

रिलेशनशिप स्टेटस से जुड़े रिश्तेदारों के सवाल का ऐसे दें जवाब...
'हनीमून फेज़' में बीतेगी पूरी ज़िंदगी, बस डी-कोड करें अपनी 'लव लैंग्वेज'
किसी से भी रिश्ता जोड़ने से पहले ज़रूर पूछें ये 10 सवाल
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement