NDTV Khabar

नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं तो अपनाएं ये 7 Tips, नहीं करवाना पड़ेगा ऑपरेशन

आजकल का लाइफस्टाइल थकान भरा है. कई कामों को एक साथ करते-करते उम्र से पहले ही शरीर बूढ़ा होने लगा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं तो अपनाएं ये 7 Tips, नहीं करवाना पड़ेगा ऑपरेशन

नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं तो अपनाएं ये 7 Tips

खास बातें

  1. ब्रिदिंग एक्सरसाइज़ करें
  2. हाइड्रेट रहें
  3. स्ट्रेस ना लें
नई दिल्ली: आजकल का लाइफस्टाइल थकान भरा है. कई कामों को एक साथ करते-करते उम्र से पहले ही शरीर बूढ़ा होने लगा है. इस वजह से कई हेल्थ परेशानियां तो हो ही रही हैं, लेकिन महिलाओं के लिए और भी ज़्यादा दिक्कतें हो गई हैं. इसी बिज़ी वक्त में खुद को स्वस्थ्य रख पाना उनके लिए मुश्किल हो गया है और पहले की तरह नॉर्मल डिलीवरी करना नामुमकिन.

क्योंकि पूरी प्रेग्नेंसी में महिलाओं को सभी काम करने पड़ते हैं, जिस वजह से वो फिजिकली और मेंटली नॉर्मल डिलीवरी नहीं कर पाती. डॉक्टर भी दर्द के बचाने के लिए ऑपरेशन करते हैं. आपको बता दें कि ऑपरेशन उस वक्त तो दर्द से बचा लेता है, लेकिन बाद में जोड़ों में दर्द और पेट की तमाम परेशानियां दे जाता है. इसीलिए यहां आपको ऐसे 7 टिप्स बता रहे हैं जिन्हें आप अपने रोज़ाना के कामों के साथ अपनाकर नॉर्मल डिलीवरी कर पाएंगी. 
 
प्रेग्‍नेंसी के दौरान सेक्‍स: जानिए क्‍या है सच्‍चाई और क्‍या है झूठ?

1. प्रेग्नेंसी एजुकेशन
सबसे पहले आप प्रेग्नेंसी से जुड़ी सारी जानकारियां इकट्ठी करें. क्योंकि आपको किताबों और गूगल पर कई ऐसा बातों के बारे में पता लगेगा, जिनसे आपको डिलीवरी में बहुत मदद मिलेगी. 

ये हैं Breast Milk बढ़ाने के 6 नैचुरल तरीके

2. डाइट
प्रेग्नेंसी में सबसे ज़रूरी है अच्छी डाइट. आप जितना हेल्दी खाएंगी, उतना ही आपके और आपके बच्चे के लिए बेहतर होगा. ध्यान रखें कि इस दौरान ओवरइटिंग ना करें, इससे आपका वज़न और बढ़ सकता है, जिससे नॉर्मल डिलवरी के चांसेस कम हो जाएंगे. 

क्या आपका बच्चा भी बहुत रोता है? तो इन 6 तरीकों से करें उसे शांत
food

3. स्ट्रेस ना लें
प्रेग्नेंसी के दौरान कभी भी स्ट्रेस और टेंशन ना लें.  चाहे कितनी भी परेशानियां आ जाएं खुद को खुश रखें. किताबें पढ़ें, दूसरों से बात करें और हमेशा अच्छा सोचें. 

क्‍या होता है इरेक्टाइल डिसफंक्शन? जान‍ि‍ए इससे न‍िपटने के 5 आसान तरीके​

4. हाइड्रेट रहें
पानी हर किसी के लिए ज़रूरी है, लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान ये और भी ज़रूरी हो जाता है. इससे आपको लेबर के दौरान होने वाले दर्द को सहने की शक्ति मिलेगी. इसीलिए सिर्फ पानी ही नहीं बल्कि ताज़े फलों का जूस और एनर्जी ड्रिंक्स भी लेती रहें.

क्‍यों होता है वैजाइनल यीस्‍ट इंफेक्‍शन, जानिए इससे कैसे पाएं छुटकारा? 
 
exersize

5. एक्सरसाइज़
प्रेग्नेंसी के दौरान एक्सरसाइज़ बहुत ज़रूरी है. क्योंकि इस दौरान शरीर के भारी वज़न से आपको जॉइंट्स में दर्द, अकड़न जैसी तकलीफ हो सकती है. इससे बचने के लिए किसी एक्सपर्ट के साथ व्यायाम करें. इनसे आपकी पेल्विक मसल्स और थाइज़ स्ट्रॉंग बनेंगी, जिससे आपको लेबर पेन में दर्द कम होगा. ध्यान रहे बिना एक्सपर्ट के कोई भी एक्सरसाइज़ ना करें, क्योंकि छोटी-सी भूल भी आपके बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकती है. 

शरीर से दूर करना चाहते हैं ऐसे दाग तो अपनाएं ये 4 तरीके, हमेशा के लिए मिलेगा छुटकारा​

6. ब्रिदिंग एक्सरसाइज़
सांसों की इस एक्सरसाइज़ से बच्चे को भी ऑक्सीज़न पहुंचेगी. इससे आप लेबर के दौरान होने वाले दर्द को भी ज़्यादा वक्त तक सहन कर पाएंगी. इससे आपको नॉर्मल डिलीवरी में बहुत मदद मिलेगी. 

टिप्पणियां
क्या होते हैं Menstrual Cups? क्यों ये सैनिटरी नैपकिन और टैम्पॉन से बेहतर है​
 
hydrate

7. मालिश लें
प्रेग्नेंसी के आखिरी तीन महीनों में ज़रूरी है आप मालिश करवाएं. इससे आपका शरीर लेबर के लिए तैयार होगा. इसके साथ लेबर के दौरान होने वाले जॉइंट्स और मसल्स दर्द में भी आपको आराम मिलेगा. 

देखें वीडियो - सुरक्षित प्रेगनेंसी के उपाय जानें
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement