Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

लोग सबसे ज्यादा इस जगह पड़ते हैं बीमार, कइयों की हो जाती है मौत

47 फीसदी प्रतिभागियों ने बताया कि पिछले 12 महीनों में उन्हें काम के दौरान संकटपूर्ण या दर्दनाक स्थितियों का सामना करना पड़ा और 31 फीसदी ने कहा कि उन्हें सहकर्मियों, क्लाइंट्स या ग्राहकों द्वारा गाली दी गई, धमकी दी गई या मारपीट की गई. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोग सबसे ज्यादा इस जगह पड़ते हैं बीमार, कइयों की हो जाती है मौत

80 फीसदी कामकाजी लोग कार्यस्थल पर होते हैं बीमार

कैनबरा:

ऑस्ट्रेलिया में पांच में चार कामकाजी लोग असुरक्षित कामकाजी प्रथा के माहौल में हैं और वे इसके कारण घायल हो रहे हैं, बीमार हो रहे हैं या फिर काम पर दर्दनाक स्थितियों के कारण दोनों से पीड़ित हो जा रहे हैं. एक सर्वेक्षण से यह खुलासा हुआ है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट में कहा गया कि 'वर्क शुडन्ड हर्ट' नाम के इस सर्वेक्षण को ऑस्ट्रेलियन काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (एसीटीयू) ने जारी किया, जिसमें 26,000 कामगारों का सर्वेक्षण किया गया.

इस सर्वेक्षण से खुलासा होता है कि करीब 80 फीसदी कामकाजी लोग अपने काम के कारण घायल, बीमार या दोनों हैं, जबकि 16 फीसदी किसी ऐसे आदमी को जानते थे, जिसकी काम के दौरान मौत हो गई, या फिर काम से जुड़ी बीमारियों के कारण मौत हो गई. 

राखी पर बहन से हैं दूर तो इन तरीकों से भेजें उसे Money


इसमें यह भी पाया गया कि 47 फीसदी प्रतिभागियों ने बताया कि पिछले 12 महीनों में उन्हें काम के दौरान संकटपूर्ण या दर्दनाक स्थितियों का सामना करना पड़ा और 31 फीसदी ने कहा कि उन्हें सहकर्मियों, क्लाइंट्स या ग्राहकों द्वारा गाली दी गई, धमकी दी गई या मारपीट की गई. 

पांच में से तीन कामगारों ने कहा कि पिछले 12 महीनों से वे खराब मानसिक स्वास्थ्य का सामना कर रहे हैं, क्योंकि उनका नियोक्ता असुरक्षित कामकाजी स्थितियों को सुधारने में असफल है.

कॉफी बन सकती है माइग्रेन का कारण, अगर रोज़ाना पीएंगे इतने कप

एसीटीयू के सहायक सचिव लियाम ओब्रायन ने फेयरफैक्स मीडिया को बताया कि चोट लगने या मानसिक स्वास्थ्य खराब होने की घटनाओं से 'पूरी तरह से बचा जा सकता' था. 

उन्होंने कहा, "काम पर किसी को तकलीफ नहीं होनी चाहिए - चाहे वह मानसिक रूप से हो या शारीरिक रूप से हो."

उन्होंने आगे कहा, "वर्क शुडन्ट हर्ट सर्वेक्षण से पता चलता है कि बहुत सारे कामकाजी लोग काम पर हिंसा, प्रताड़ना और खराब कामकाजी स्थितियों का सामना कर रहे हैं जबकि इसमें से ज्यादातर को रोका जा सकता है."

पीएम मोदी ने जिस 'सोलो' जड़ी-बूटी का किया जिक्र, जानिए क्या है उसमें खास

टिप्पणियां

VIDEO: NDTV को सबसे भरोसेमंद चैनल का सम्मान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... UP के पूर्व राज्यपाल का आरोप- CAA विरोधी प्रदर्शनों में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' बोलने वाले सरकार के लोग

Advertisement