अफगानिस्तान में 10 साल तक लड़का बनकर रही ये लड़की, पीछे की वजह है Shocking

सितारा की पांच बहनें हैं और कोई भाई नहीं है. उसे अफगानिस्तान की ‘बाशा पोशी’ परंपरा का पालन कराया गया, जिसके तहत किसी लड़की को लड़के के वेश में रखा जाता है जो पितृ प्रधान समाज वाले देश में परिवार में बेटे की भूमिका निभाती है.

अफगानिस्तान में 10 साल तक लड़का बनकर रही ये लड़की, पीछे की वजह है Shocking

अफगान लड़की दस साल से अधिक समय तक बेटे के वेश में रही

खास बातें

  • सितारा वफादार नाम की एक अफगान लड़की की कहानी
  • परिवार ने एक दशक से अधिक समय तक लड़के के वेश में रखा
  • सितारा की पांच बहनें हैं और कोई भाई नहीं है
नई दिल्ली:

सितारा वफादार नाम की एक अफगान लड़की को उसके परिवार ने दस साल तक से अधिक समय तक लड़के के वेश में रखा. दरअसल, उसका कोई भाई नहीं है, जिसके चलते उसके माता-पिता ने उसे बेटे के वेश में रहने के लिए मजबूर किया. 

सितारा की पांच बहनें हैं और कोई भाई नहीं है. उसे अफगानिस्तान की ‘बाशा पोशी’ परंपरा का पालन कराया गया, जिसके तहत किसी लड़की को लड़के के वेश में रखा जाता है जो पितृ प्रधान समाज वाले देश में परिवार में बेटे की भूमिका निभाती है.

आंखें मटकाने के लिए ऐसे हुआ था Priya Prakash का मेकअप, सामने आया Video

अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांत नांगरहार स्थित एक गांव में फूंस के एक घर में रहने वाली 18 वर्षीय सितारा ने कहा, ‘‘मैंने कभी नहीं सोचा कि मैं एक लड़की हूं.’’ वह और उसके पिता एक ईंट भट्ठे पर सप्ताह में छह दिन बंधुआ मजदूर के रूप में काम करते हैं ताकि परिवार का गुजारा हो सके.’’ 

उसने कहा, ‘‘मेरे पिता हमेशा कहते हैं कि सितारा मेरे बड़े बेटे की तरह है. कभी - कभी मैं उनके बड़े बेटे का फर्ज निभाते हुए अंत्येष्टि कार्यक्रमों में भी जाती हूं.’’ 

UPSC Result 2017: 4 साल के बच्चे की मां ने किया कमाल, हरियाणा में बनीं मिसाल

हालांकि, ज्यादातर लड़कियां तरुणायी शुरू होने पर लड़के की वेश-भूषा रखना बंद कर देती हैं. जबकि कुछ लड़कियां लड़कों की तरह ही आजाद रहने के लिए ऐसा करना जारी रखती हैं.

सितारा ने कहा कि उसने तरुणायी में पहुंचने के बाद भी पुरुषों जैसे वस्त्र पहनने जारी रखे, ताकि ईंट भट्ठे पर खुद की हिफाजत कर सके. वह एक दिन में करीब 500 ईंट बनाती है जिसके बदले उसे करीब दो डॉलर मिलते हैं. 

Newsbeep

काबुल विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र के प्राध्यापक बरयालई फितरत ने बताया कि बाशा पोशी परंपरा का पालन मुख्य रूप से अफगानिस्तान के पुरातनपंथी क्षेत्रों में किया जाता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


देखें वीडियो - हिंदुस्तान-अफगानिस्तान को जोड़ते क्रिकेट-बॉलीवुड