NDTV Khabar

अपने लाइफ पार्टनर से करेंगे झगड़ा तो गठिया और डायबिटीज लेंगे बदला

रिसर्च में सामने आया है कि घुटनों की हड्डियों की बीमारी से परेशान मरीज बहुत जल्द अपंग बन जाते हैं और जिनकी डायबिटीज कंट्रोल में नहीं रहती उन्‍हें ज्यादा खतरा बना रहता है.

58 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अपने लाइफ पार्टनर से करेंगे झगड़ा तो गठिया और डायबिटीज लेंगे बदला

पार्टनर से झगड़ा करने पर डायबिटीज और गठिया का दर्द बढ़ जाता है

खास बातें

  1. जो लोग अपने पार्टनर से झगड़ा करते हैं उनकी डायबिटीज बढ़ जाती है
  2. गठिया के दर्द से परेशान मरीजों का दर्द भी बढ़ जाता है
  3. इस बात का खुलासा एक रिसर्च में हुआ है
नई द‍िल्‍ली : गठिया और डायबिटीज के मरीज अगर अपने पार्टनर यानी कि हमसफर के साथ झगड़ते हैं तो इससे उनकी तकलीफ और ज्‍यादा बढ़ जाती है. यह बात एक रिसर्च में सामने आई है. 'एनल्स ऑफ बिहेवियरल मेडिसिन' में छपे रिसर्च के नतीजों के मुताबिक, गठिया और डायबिटीज से परेशान बुजुर्गों के दो अलग-अलग ग्रुप के मरीजों पर जांच की गई. जांच के नतीजों में सामने आया कि जो लोग अपने जीवनसाथी को लेकर टेंशन में थे उनकी तकलीफें ज्यादा बढ़ी हुईं पाई गईं.

रहना है हेल्‍दी तो डायबिटीज को कुछ यूं करें कंट्रोल

रिसर्च के को-राइटर और अमेरिका की पेंसिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर लीन मार्टायर ने कहा, 'रिसर्च के नतीजों से हमें यह जानने को मिला कि शादी से किस तरह हेल्‍थ पर असर पड़ सकता है. खासतौर से गठिया और डायबिटीज जैसी बीमारियों से परेशान मरीजों को यह जानना जरूरी है.'

शहद और दालचीनी के 7 फायदे, गठिया के दर्द में दिलाए आराम

उन्‍होंने बताया कि घुटनों की हड्डियों की बीमारी से परेशान मरीज बहुत जल्द अपंग बन जाते हैं और जिनकी डायबिटीज कंट्रोल में नहीं रहती उन्‍हें ज्यादा खतरा बना रहता है. 

उन्‍होंने अपनी रिसर्च में घुटनों में गठिया रोग की शिकायत वाले 145 मरीजों के एक ग्रुप को शामिल किया, जिसमें उनके जीवनसाथी भी शामिल थे. इसके अलावा दो तरह की डायबिटीज से परेशान 129 मरीजों का एक दूसरा ग्रुप बनाया. 

मछली के तेल और विटामिन डी से दूर नहीं होगा गठिया

दोनों ग्रुप्‍स में शामिल पार्टिसिपेंट की दिनचर्या में उनके मूड, उनकी तकलीफें और उनके जीवनसाथी के रिएक्‍शन को दर्ज किया गया. गठिया और डायबिटीज के रोगियों ने 22 और 24 दिनों तक अपनी दिनचर्या लिखी. 

डायबिटीज है तो क्‍या हुआ, इसे भूलकर कुछ यूं लें जिंदगी का मजा

टिप्पणियां
शोधकर्ताओं ने पाया कि जिस दिन मरीज अपने जीवनसाथी को लेकर टेंशन में होते थे, उस दिन उनका मूड खराब रहता था और उनमें बीमारी के लक्षण की गंभीरता भी बढ़ जाती थी. 

Video: जानिए रिटायरमेंट के बाद होने वाले तनाव के बारे में


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement