NDTV Khabar

शादी की लड्डू खाने से पछतावा नहीं मिलती है ये खुशी

जिन कपल की आय साल में 60 हजार अमेरिकी डॉलर (लगभग 39 करोड़) से कम है, उनमें अच्छा कमाने वाले अविवाहित लोगों की तुलना में डिप्रेशन के लक्षण कम पाए गए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शादी की लड्डू खाने से पछतावा नहीं मिलती है ये खुशी

शादी करने से अवसाद हो सकता है कम: अध्ययन

खास बातें

  1. शादी करने के होते हैं फायदे
  2. रिसर्च में हुआ खुलासा
  3. नहीं होती ये बीमारी
नई दिल्ली: एक कहावत है कि शादी का लड्डू जो खाएं वो भी पछताएं और जो न खाएं वो भी पछताएं. हालांकि एक अध्ययन में जो बात सामने आई है उससे शादी करने के बाद किसी तरह का पछतावा नहीं होने के संकेत मिलते है. इस अध्ययन के अनुसार शादी करने से अवसाद (Depression) कम हो सकता है.

रोजाना की ये 5 आदतें आपको कर रही हैं बीमार, अच्छी डाइट और एक्सरसाइज भी फेल

अध्ययन के मुताबिक जो लोग शादी करते हैं और जिनकी प्रतिवर्ष कुल घरेलू आय 60 हजार अमेरिकी डॉलर (लगभग 39 करोड़) से कम है, उनमें अच्छा कमाने वाले अविवाहित लोगों की तुलना में डिप्रेशन के लक्षण कम पाए गए हैं. हालांकि , अमेरिका में जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक अधिक कमाई वाले जोड़ों के लिए शादी से उसी तरह के मानसिक स्वास्थ्य लाभ नहीं दिखते है.

शरीर को मोटा ही नहीं, 8 घंटे से कम नींद लेने वालों में बढ़ रही है ये बीमारी भी

टिप्पणियां
जर्नल सोशल साइंस रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात कही गई है. शोधकर्ताओं ने एक राष्ट्रीय अध्ययन से आंकड़ों की जांच की जिसमें अमेरिका में 24 से 89 वर्ष की आयु में 3,617 वयस्कों के साक्षात्कार शामिल थे और ये कई सालों से विशिष्ट अंतराल पर लिये गए थे. इस सर्वेक्षण में सामाजिक, मनोवैज्ञानिक, मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य विषय शामिल हैं. जार्जिया स्टेट के एक सहायक प्रोफेसर बेन लेनोक्स कैल ने कहा,‘‘ जो लोग विवाहित है और जो एक वर्ष में 60 हजार अमेरिकी डालर से कम कमाई करते है उनमें डिप्रेशन के कम लक्षण दिखाई देते है.’’ 

देखें वीडियो - डिप्रेशन का इलाज समय पर करवाएं
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement