COVID-19: इस रेस्टोरेंट में एक टेबल पर एक शख्स को खिलाया जाएगा खाना, रस्सी से किया जाएगा सर्व

''बोर्ड फॉर एन'' या फिर टेबल फॉर वन नाम का यह रेस्टोरेंट 10 मई से 1 अगस्त तक खुलेगा. स्वीडन के वार्मलैंड में स्थित लश मेडॉ (Lush Meadow) में इस रेस्टोरेंट को रैसमस पर्सन और लिंडा कॉर्ल्सन खोलने जा रहे हैं.

COVID-19: इस रेस्टोरेंट में एक टेबल पर एक शख्स को खिलाया जाएगा खाना, रस्सी से किया जाएगा सर्व

यह रेस्टोरेंट एक बार में सिर्फ एक ही शख्स को खाना सर्व करेगा.

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते दुनियाभर में लोग सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) अपना रहे हैं और इसके साथ जीने का नया तरीका सीख रहे हैं. एक ओर जहां दुकानों पर लोगों को कम से कम 3 फुट की दूरी बनाते हुए लाइन में लगने के लिए कहा जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर भोजनालयों या रेस्टोरेंट में एक सीट छोड़ कर एक पर बैठने के लिए कहा जा रहा है. हालांकि, स्वीडन के एक रेस्टोरेंट ने सोशल डिस्टेंसिंग को काफी ज्यादा सीरियसली ले लिया है, जो एक खाली मैदान में लोगों को सोलो डिनर सर्व कर रहा है. इस दौरान यह रेस्टोरेंट रस्सी की मदद से खाना सर्व कर रहा है. 

सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ''बोर्ड फॉर एन'' या फिर टेबल फॉर वन नाम का यह रेस्टोरेंट 10 मई से 1 अगस्त तक खुलेगा. स्वीडन के वार्मलैंड में स्थित लश मीडो (Lush Meadow) में इस रेस्टोरेंट को रैसमस पर्सन और लिंडा कॉर्ल्सन खोलने जा रहे हैं. इस कपल को एक दिन अपने माता पिता के साथ लंच करते वक्त यह आइडिया आया, जहां रैसमस एक खिड़की के जरिए खाना सर्व कर रही थीं. वह पहले एक शेफ थीं. 

लिंडा कॉर्ल्सन ने इस बारे में इंसाइडर से बात करते हुए कहा, ''दुनियाभर में कोविड-19 से सुरक्षित यह एक अकेला रेस्टोरेंट होगा.'' यह सिंगल टेबल रेस्टोरेंट सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से ध्यान रखते हुए सिर्फ सोलो डिनर ही देगा. साथ ही इस रेस्टोरेंट में किसी तरह के वेटर को नहीं रखा जाएगा क्योंकि खाने की टोकरी सीधे किचन से एक रस्सी के जरिए आएगी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

लिंडा ने कहा, ''हम खाना बनाते वक्त सिर्फ एक ही गेस्ट पर फोकस करना चाहते हैं. लेकिन साथ ही हम इस तरह से गेस्ट के एक्सपीरियंस को कोविड-19 फ्री बना सकते हैं.'' उन्होंने यह भी कहा कि रेस्टोरेंट में सभी का स्वागत किया जाएगा, चाहे उनकी "वित्तीय स्थिति" कुछ भी हो. साथ ही महमान अपनी इच्छा अनुसार खाने का पैसा दे सकते हैं. 

लिंडा ने कहा, "हम सब मुश्किल वक्त से गुजर रहे हैं. कई लोगों ने अपने चाहने वालों तो कइयों ने अपनी नौकरी भी गवा दी है. इस वजह से हम हर तरह की ''वित्तीय स्थिति'' के लोगों का स्वागत कर रहे हैं."