NDTV Khabar

आपके बेडरूम की बातें अब नहीं रही प्राइवेट, इन तरीकों से सबकुछ सुन रहे हैं लोग

रिपोर्ट में कहा गया, "इन रिकॉर्डिग में हम पता और संवेदनशील जानकारी साफ सुन सकते हैं. इससे बातचीत में शामिल लोगों की पहचान करना और ऑडियो रिकॉर्डिग से उसका मिलान करना आसान हो गया है."

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आपके बेडरूम की बातें अब नहीं रही प्राइवेट, इन तरीकों से सबकुछ सुन रहे हैं लोग

गूगल कॉन्ट्रैक्टर्स असिस्टेंट के जरिए सुन रहे हैं बेडरूम की बातें

सैन फ्रांसिस्को:

गूगल के लिए काम करने वाले तीसरे पक्ष (कॉन्ट्रैक्टर्स स्मार्टफोन, होम स्पीकर और सुरक्षा कैमरे) गूगल असिस्टेंट के माध्यम से आपके बेडरूम की बातचीत को गुप्त रूप से सुन रहे हैं. 

एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस तरह की रिकॉर्डिग से यूजर्स की गोपनीयता पर गंभीर सवाल उठते हैं.

बेल्जियम के ब्रॉडकास्टर वीआरटी एनडब्ल्यूएस के अनुसार, गूगल होम स्पीकर के साथ यूजर्स की बातचीत रिकॉर्ड की जा रही है और ऑडियो क्लिप सब-कॉन्ट्रैक्टर्स को भेजे जा रहे हैं, जो गूगल की स्पीच रिकगनिशन में सुधार के लिए ऑडियो फाइलों को बाद में उपयोग करने के लिए ट्रांसक्रिप्ट कर रहे हैं. 

दुबई में अब शराब पीने पर इन लोगों को नहीं होगी सज़ा, बस साथ ले जाना ना भूलें ये एक चीज़

एक व्हिसिलब्लोअर की सहायता से वीआरटी एनडब्ल्यूएस गूगल असिस्टेंट के माध्यम से रिकॉर्ड किए गए एक हजार से अधिक अंशों को सुनने में सक्षम रहा. 


रिपोर्ट में कहा गया, "इन रिकॉर्डिग में हम पता और संवेदनशील जानकारी साफ सुन सकते हैं. इससे बातचीत में शामिल लोगों की पहचान करना और ऑडियो रिकॉर्डिग से उसका मिलान करना आसान हो गया है."

वीआरटी ने कहा, "बहुत से पुरुषों ने पोर्न की खोज की, पति-पत्नी के बीच बहस, और यहां तक कि एक मामला जिसमें एक महिला आपातकालीन स्थिति में थी. इन सभी बातों का पता हमें रिकॉर्डिग से चला."

AC के शोर से परेशान था शख्स, खोलकर देखा तो निकल गई चीख, खुद ही देखें ये होश उड़ा देने वाली Photo

इससे भी ज्यादा चिंताजनक बात यह है कि व्हिसलब्लोअर ने वीआरटी को जिस प्लेटफॉर्म को दिखाया था, उसके पास पूरी दुनिया की रिकॉर्डिग मौजूद थी. 

अंतर्राष्ट्रीय डेटा निगम (आईडीसी) के अनुसार भारत में, अमेजॅन इको ने 2018 में 59 प्रतिशत शेयर के साथ भारतीय स्मार्ट स्पीकर बाजार का नेतृत्व किया, इसके बाद गूगल होम 39 प्रतिशत यूनिट शेयर के साथ मौजूद रहा. 

देश में 2018 में कुल 753 हजार इकाइयां भेजी गईं. गूगल होम के मिनी व अन्य सभी स्मार्ट स्पीकर मॉडल बिक गए और वह एक शीर्ष विक्रेता के रूप में उभरा.

इनपुट-आईएएनएस

टिप्पणियां

वीडियो - मोबाइल से हो सकता है कैंसर!



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement