NDTV Khabar

Happy Teachers Day 2017: सोशल मीडिया पर इन SMS और कोट्स से अपने टीचर्स को करें विश

Teachers Day: शिक्षकों की महत्ता को सही स्थान दिलाने और शिक्षकों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए ही 5 सितंबर के दिन शिक्षक दिवस मनाया जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Happy Teachers Day 2017: सोशल मीडिया पर इन SMS और कोट्स से अपने टीचर्स को करें विश

Teachers Day 2017: टीचर्स डे के दिन करें अपने गुरुओं को सलाम.

भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के दिन टीचर्स डे मनाया जाता है. उनके जन्मदिवस के उपलक्ष्य में संपूर्ण भारत में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाकर डॉ. राधाकृष्णन के प्रति सम्मान व्यक्त किया जाता है. शिक्षक काफी हद तक समाज के शिल्पकार होते हैं. शिक्षकों की महत्ता को सही स्थान दिलाने के लिए ही हमारे देश में सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने पुरजोर कोशिशें कीं, जो खुद एक बेहतरीन शिक्षक थे. शिक्षकों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए ही 5 सितंबर के दिन शिक्षक दिवस मनाया जाता है.

भारत में 5 सितंबर शिक्षक दिवस के दिन अध्यापन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शिक्षकों को सरकार की ओर से सम्मानित किया जाता है. स्कूलों और कॉलेजों में बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. आइए जानते हैं ऐसे कोट्स और एसएमस जो आपके मन को छू लेंगे:-

नहीं हैं शब्द कैसे करुं शुक्रिया,
बस चाहिए हर पल आपका आशीर्वाद,
हूं जहां आज मैं उसमें हैं बड़ा योगदान,
आप सबका जिन्होंने दिया मुझे इतना ज्ञान.
हैप्‍पी टीचर्स डे

Teachers Day: जीवन को नई राह देते हैं शिक्षक.

माता गुरु है, पिता भी गुरु है,
स्‍कूल के टीचस भी गुरु हैं
जिससे भी कुछ सीखा है मैंने,
हमारे लिए हर वो शख्‍स गुरु है.
हैप्‍पी टीचर्स डे
 


सही क्या है गलत क्या है,
ये सबक पढ़ते हैं आप,
झूठ क्या है और सच क्या,
यह बात समझते हैं आप,
जब सूझता नहीं कुछ भी,
राहों को सरल बनाते है आप..
टीचर्स डे मुबारक

गुमनामी के अंधेरे में था,
पहचान बना दिया,
दुनिया के गम से मुझे,
अनजान बना दिया,
उनकी ऐसी कृपा हुई,
गुरू ने मुझे एक अच्छा, इंसान बना दिया. टीचर्स डे मुबारक

कोट्स

हमेशा ध्‍यान रखें: एक किताब, एक पैन, एक बच्‍चा और एक शिक्षक विश्‍व को बदल सकता है: मलाला यूसूफ़जई
टिप्पणियां

अगर किसी देश को भ्रष्‍टाचार से मुक्‍त और देश को सुंदर सोच देनी है तो मैं दृढ़ता से महसूस करता हूं कि तीन प्रमुख सामाजिक सदस्य हैं जो अंतर कर सकते हैं और वो 3 सदस्‍य हैं पिता, माता और एक शिक्षक: डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

सच्चे शिक्षक वे हैं जो हमें अपने लिए सोचने में सहायता करते हैं- डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement