NDTV Khabar

हार्ट अटैक के बाद के खतरे को कम करेगा ये चेकअप, बचाएगा आपकी जान

कुछ रोगियों को दिल का दौरा पड़ने के बाद अधिक खतरा होता है और इस रिसर्च से आने वाले समय में नए उपचारों के साथ इसका निदान पा सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हार्ट अटैक के बाद के खतरे को कम करेगा ये चेकअप, बचाएगा आपकी जान

दिल की सेहत मापने में नई किस्म की रक्त जांच मददगार

खास बातें

  1. मायोकार्डियल इंफेक्शन से मृत्यु का जोखिम 40 प्रतिशत बढ़ा
  2. इस जोखिम को कम करेगा ये चेकअप
  3. दिल के दौरे के बाद बचाएगा जान
नई दिल्ली: दिल का दौरा या हार्ट अटैक के बाद सेहत बहुत नाजुक हो जाती है. कई डॉक्टर कुछ रोगियों को इस अटैक के बाद जान के खतरे तक की चेतावती दे देते हैं. लेकिन अब इस रिसर्च से इस बात की वजह भी पता चल पाएगी कि आखिर क्यों दिल के दौरे के बाद जान का ज़्यादा खतरा बना रहता है और इसका कैसे इलाज किया जा सकता है. 

इन 10 चीजों को खाने से आता है हार्ट अटैक, जिन्‍हें आप रोज़ खा रहे हैं

शोधकर्ताओं ने एक नई किस्म की खून जांच का पता लगाया है. इसके परिणाम दिखाते हुए उनका कहना है कि नोवल थेरेपी कोरोनरी सिंड्रोम वाले रोगियों में फाइब्रिन थक्का विश्लेषण समय पर गौर करने से रोग का सही निदान हो सकता है. 

ये बुखार 6 गुना बढ़ा देता है हार्ट अटैक का खतरा, हर साल 5 लाख लोगों की होती है मौत

यूके की शेफील्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रॉब स्टोरे के सह-लेखक ने कहा, "हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि क्यों कुछ रोगियों को दिल का दौरा पड़ने के बाद अधिक खतरा होता है और हम आने वाले समय में नए उपचारों के साथ इसका निदान कैसे कर सकते हैं." 

क्या होता है कैंसर, जानें इसके लक्षण, इलाज और कारण

यूरोपियन हार्ट जरनल में प्रकाशित एक अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम के साथ 4,300 से अधिक तभी अस्पताल से निकले मरीजों के साथ रक्त प्लाज्मा नमूनों का विश्लेषण किया. 

किसी को अचानक आ जाए हार्ट अटैक, तो करें ये एक काम

उन्होंने थक्का के अधिकतम घनत्व को मापा और बताया कि थक्का बनने में लगे वाले समय को- क्लॉट लेसिस टाइम भी कहा जाता है.

ज्ञात नैदानिक विशेषताओं और जोखिम कारकों के समायोजनों के बाद, अध्ययन में पाया गया कि सबसे लंबे समय तक थक्का रोग के रोगियों को हृदय रोग के कारण मायोकार्डियल इंफेक्शन या मृत्यु का 40 प्रतिशत बढ़ा जोखिम है. 

शोधकर्ताओं के अनुसार, यह शोध उन जोखिमों को कम करने के लिए नए लक्ष्य की पहचान करने मदद कर सकता है और अधिक प्रभावी उपचार भी कर सकता है. 

INPUT - IANS

टिप्पणियां
देखें वीडियो - दिल के सेहत के लिए जानें अपना हार्ट रेट​




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement