NDTV Khabar

भारत के 80 प्रतिशत लोग इस बीमारी से बेखबर, पुरुष आते हैं इसकी चपेट में ज्यादा

17 अप्रैल को विश्व हीमोफीलिया दिवस (World Hemophilia Day) पर कहा कि हीमोफीलिया के मरीजों के मामले में भारत दूसरे नंबर पर है जहां ऐसे दो लाख मामले हैं. हीमोफीलिया रक्तस्राव की आजीवन चलने वाली बीमारी है, जो खून को जमने (क्लॉटिंग) से रोकती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत के 80 प्रतिशत लोग इस बीमारी से बेखबर, पुरुष आते हैं इसकी चपेट में ज्यादा

भारत में हीमोफीलिया के 80 प्रतिशत मामलों का पता ही नहीं चलता : डॉक्टर 

नई दिल्ली:

पिछले काफी सालों में हीमोफीलिया (Hemophilia) के इलाज के लिए चिकित्सीय प्रौद्योगिकी में सुधार हुआ है. लेकिन बावजूद इसके हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि खून की इस गंभीर बीमारी से पीड़ित करीब 80 प्रतिशत भारतीयों में इसका पता नहीं चलता क्योंकि दूर-दराज के इलाकों में सही निदान की सुविधाओं का अभाव है.

चिकित्सकों ने 17 अप्रैल को विश्व हीमोफीलिया दिवस (World Hemophilia Day) पर कहा कि हीमोफीलिया के मरीजों के मामले में भारत दूसरे नंबर पर है जहां ऐसे दो लाख मामले हैं. हीमोफीलिया रक्तस्राव की आजीवन चलने वाली बीमारी है, जो खून को जमने (क्लॉटिंग) से रोकती है.

इस 12 साल की लड़की ने किया ऐसा काम, खुद की कमाई से जन्मदिन पर खरीदी BMW

हीमोफीलिया फाउंडेशन ऑफ इंडिया के मुताबिक हीमोफीलिया के पीछे शरीर की एंटी हीमोफीलिक फैक्टर (एएचएफ) को पर्याप्त मात्रा में नहीं बना पाने की अक्षमता जिम्मेदार है. इस बीमारी का कोई ज्ञात इलाज नहीं है. अगर इसका जल्द पता नहीं चलता है तो जोड़ों, हड्डियों, मांसपेशियों में बार-बार खून बहने से सिनोविटिस, अर्थराइटिस और जोड़ों में स्थायी विकृति हो सकती है.


एक झटके में 9 साल की लड़की बनी करोड़पति, करोड़ों के साथ मिली लग्ज़री कार

जम्मू कश्मीर के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज श्रीनगर में पैथोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ रूबी रेशी ने कहा कि भारत हीमोफीलिया के इलाज की दिशा में तेजी से बढ़ रहा है लेकिन असल समस्या रोग का पता चलने की है. रेशी ने को बताया, “देश में हीमोफीलिया से ग्रस्त केवल 20,000 मरीज पंजीकृत हैं जबकि इस आनुवंशिक बीमारी से कम से कम 2,00,000 लोग पीड़ित हैं.” 

चिकित्सकों का कहना है कि भले ही सरकार ने हीमोफीलिया के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत पर्याप्त प्रयास किए हैं लेकिन देश के दूर-दराज इलाकों में निदान केंद्र अब भी नहीं बन पाए हैं. हीमोफीलिया आमतौर पर वंशानुगत होता है और प्रत्येक 5,000 पुरुषों में से एक इस बीमारी के साथ पैदा होता है.

2 भारतीय और 1 पाकिस्तानी ने दुबई में मिलकर रची ऐसी साजिश, लगा 28 लाख का जुर्माना

लखनऊ के संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में हीमेटोलॉजी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ राजेश कश्यप ने कहा कि देश के प्रत्येक जिले में डायगनोस्टिक लैब के जाल को बढ़ा देने मात्र से हीमोफीलिया की समस्या का समाधान किया जा सकता है.

टिप्पणियां

VIDEO: सेहत के लिए घातक है नारियल तेल!



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement