NDTV Khabar

गर्भ में पल रहे बच्चों को इस तरह नुकसान पहुंचा रहा है वायु प्रदूषण

प्रेग्नेंसी के दौरान प्रदूषित हवा में सांस लेना सीधे तौर पर गर्भ में पल रहे बच्चे के बाल्यावस्था में उसके धड़कनों पर प्रभाव डालता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गर्भ में पल रहे बच्चों को इस तरह नुकसान पहुंचा रहा है वायु प्रदूषण

वायु प्रदूषण गर्भ में पल रहे बच्चों के लिए खतरनाक

नई दिल्ली: भारत के कई शहरों में हर दिन वायु प्रदूषण बढ़ रहा है. इसकी वजह से अस्थमा के मरीज ही नहीं बल्कि गर्भवती महिलाएं भी जूझ रही हैं. वायु प्रदूषण के प्रभाव को लेकर एक चौंकाने वाला अध्ययन सामने आया है. इसमें बताया गया है कि उन बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर का खतरा ज्यादा रहता है जिनकी माओं ने अपने प्रेग्नेंसी के छठे से नौवें महीने के बीच वायु प्रदूषण का सामना किया हो.

पीएम 2.5 वायु प्रदूषण का एक प्रकार है जो मोटर वाहन, तेल, कोयला या जैव ईंधन के जलने से पैदा होता है और इसका सेहत पर बुरा असर पड़ता है. 

प्रेग्नेंसी के दौरान क्यों होता है इतना दर्द, सामने आई ये वजह

अमेरिका में जॉन हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर नोल टी म्यूलर ने कहा, ‘‘यह ऐसा पहला अध्ययन है जो यह दिखाता है कि प्रेग्नेंसी के दौरान प्रदूषित हवा में सांस लेना सीधे तौर पर गर्भ में पल रहे बच्चे के बाल्यावस्था में उसके धड़कनों पर प्रभाव डालता है.’’ 

टिप्पणियां
‘हाइपरटेंशन’ जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन के वरिष्ठ लेखक म्यूलर ने कहा, ‘‘बच्चों में यह प्रदूषण बड़े होने पर भी उनमें हाई ब्लड प्रेशर का कारण बनता है और इसी हाई बीपी की वजह से दिल से जुड़ी बीमारियां भी होती हैं. 

अनुसंधानकर्ताओं ने इस अध्ययन के लिए 1,293 माताओं और उनके बच्चों की जांच की थी जो बोस्टन बर्थ कोहोर्ट स्टडी का हिस्सा थे.
 
देखें वीडियो - गर्भवती महिलाओं को होने वाला हाई ब्लड प्रेशर
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement