NDTV Khabar

'चाय' बनी इस बीमारी का इलाज, लोग दवाइयां छोड़ पी रहे हैं इसे

हाई बीपी से पीड़ित 79 फीसदी उत्तरदाताओं ने कहा कि वह एक महीना अतिरिक्त जीवन जीने के लिए दवाई खाने को तैयार हैं, जबकि 78 फीसदी लोगों ने कहा कि रोजाना चाय का एक कप पीने के लिए तैयार हैं. 

175 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'चाय' बनी इस बीमारी का इलाज, लोग दवाइयां छोड़ पी रहे हैं इसे

उच्च रक्तचाप के रोगियों को कसरत से ज्यादा चाय पसंद

खास बातें

  1. 79 फीसदी दवाइयां खाने के लिए तैयार
  2. 78 फीसदी लोगों को रोजाना एक कप चाय पीना पसंद
  3. अधिकांश लोग 45 उम्र से कम
नई दिल्ली: हाई बीपी से परेशान लोग अपनी इस परेशानी से छुटाकारा पाने के लिए एक्सरसाइज़ नहीं बल्कि एक कप चाय और दवाई खाना ज्यादा पसंद करते हैं. एक सर्वेक्षण में 79 फीसदी उत्तरदाताओं ने कहा कि वह एक महीना अतिरिक्त जीवन जीने के लिए दवाई खाने को तैयार हैं, जबकि 78 फीसदी लोगों ने कहा कि रोजाना चाय का एक कप पीने के लिए तैयार हैं. 

High या Low ब्लड प्रेशर की है शिकायत? आजमाएं ये 8 घरेलू नुस्खे

यहां केवल 63 प्रतिशत ने कहा कि एक अतिरिक्त महीने जीने के लिए व्यायाम करना पसंद करेंगे.

कनेक्टिकट के याले स्कूल ऑफ मेडिसिन में सहायक प्राध्यापक व इस अध्ययन की लेखिका एरिका स्पैट्स ने कहा, "हमारे निष्कर्षों से पता चलता है कि लोगों ने स्वाभाविक रूप से हृदय की सेहत में सुधार के लिए अपने-अपने स्तर पर अलग-अलग तरीके खोज लिए हैं." 

इन 4 लोगों के लिए जहर है अदरक, ना खाएं तो ही बेहतर

शोधार्थियों ने इस दौरान 1,500 अमेरिकी व्यस्कों से हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित होने की कल्पना करने के लिए कहा था और उसके बाद पूछा था कि आप एक माह, एक साल या पांच साल अतिरिक्त जीवन जीने के लिए चारों में से कौन सा उपचार अपनाएंगे.

खाली पेट क्‍यों खाना चाहिए लहसुन? ये हैं 7 कारण

इन चार उपचारों में रोजाना एक कप चाय, व्यायाम, दवाएं और मासिक व अर्धमासिक इंजेक्शन के विकल्प शामिल थे. 

इस दौरान केवल 68 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वह अतिरिक्त जीवन जीने के लिए मासिक व अर्धमासिक इंजेक्शन के विकल्प को चुनेंगे. 

टिप्पणियां
सर्वेक्षण में शामिल अधिकांश लोग 45 उम्र के कम थे. इनमें आधी संख्या महिलाओं की थीं, जिनमें से अधिकांश उच्च रक्तचाप से पीड़ित थीं. (इनपुट - आईएएनएस)

देखें वीडियो - हाई ब्लड प्रेशर से बचाव के उपाय
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement