NDTV Khabar

अगर कार्बोहाइड्रेट ज्‍यादा खाया तो फिर से हो सकता है कैंसर

कैंसर के इलाज से पहले के साल में जिन्होंने कार्बोहाइड्रेट और सुक्रोज, फ्रक्टोज, लैक्टोज और माल्टोज के रूप में शुगर ज्यादा लिया, उनमें मौत का खतरा ज्‍यादा होता है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अगर कार्बोहाइड्रेट ज्‍यादा खाया तो फिर से हो सकता है कैंसर

ज्‍यादा कार्बोहाइड्रेट शरीर के ल‍िए नुकसानदेह है

खास बातें

  1. ज‍िन लोगों को कैंसर है उन्‍हें कार्बोहाइड्रेट इनटेक का ध्‍यान रखना चाह‍िए
  2. ऐसे मरीज ज्‍यादा कार्बोहाइड्रेट लें तो उन्‍हें फ‍िर से कैंसर हो सकता है
  3. यह बात एक र‍िसर्च में सामने आई है
नई द‍िल्‍ली : अगर किसी को सिर और गले का कैंसर है तो उन्‍हें खाने-पीने का बहुत ध्‍यान रखना चाहिए. ऐसे लोगों के खाने में अगर कार्बोहाइड्रेट और शुगर की मात्रा ज्‍यादा होगी तो उन्‍हें दोबारा कैंसर हो सकता है. यही नहीं कैंसर मौत का कारण बन सकता है. यह बात एक रिसर्च में सामने आई है.

आपके बाथरूम में मौजूद ये हैं वो 5 चीजें ज‍िनसे होता है कैंसर

रिसर्च में पाया गया है कि कैंसर के इलाज से पहले के साल में जिन्होंने कार्बोहाइड्रेट और सुक्रोज, फ्रक्टोज, लैक्टोज और माल्टोज के रूप में शुगर ज्यादा लिया, उनमें मौत का खतरा ज्‍यादा होता है. 

कैंसर से खुद को बचाने के लिए ज़रूर खाएं ये 10 फूड

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ कैंसर में प्रकाशित अध्ययन में कैंसर के 400 मरीजों में 17 फीसदी से अधिक मरीजों में कैंसर की पुनरावृत्ति दर्ज की गई, जबकि 42 फीसदी की मौत हो गई. 

कैंसर के वो 5 खतरनाक लक्षण जिन्‍हें पुरुषों को नहीं करना चाहिए नजरअंदाज

टिप्पणियां
अरबाना शैंपैन स्थित इलिनोइस विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और प्रमुख शोधकर्ता अन्ना ई. आर्थर ने बताया कि कार्बोहाइड्रेट खाने वाले मरीजों और अन्य मरीजों में कैंसर के प्रकार और कैंसर के चरण में अंतर पाया गया.  हालांकि उपचार के बाद कम मात्रा में वसा और अनाज, आलू जैसे स्टार्च वाले भोजन खाने वाले मरीजों में बीमारी की पुनरावृत्ति और मौत का खतरे कम हो सकता है.

Video: इररेग्‍युलर पीरियड्स को न करें नजरअंदाजInput: IANS


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement