क्या आपकी मम्मी भी करती हैं घर की सफाई? रहें सावधान, बढ़ रही है ये बीमारी

सफाई का काम न करने वाली महिलाओं के मुकाबले नियमित तौर पर सफाई करने वाली महिलाओं को यह दिक्कत ज्यादा हो सकती है.

क्या आपकी मम्मी भी करती हैं घर की सफाई? रहें सावधान, बढ़ रही है ये बीमारी

सफाई करने वाली महिलाओं के फेफड़े में दिक्कत आने की आशंका ज्यादा

खास बातें

  • नियमित तौर पर सफाई करने वाली महिलाओं को दिक्कत
  • क्लीनिंग स्प्रे कर रहा है बीमार
  • समय के साथ फेफड़े हो रहे बीमार
नई दिल्ली:

भारत के लगभग ज़्यादातर घरों में औरतें खुद सफाई करती हैं. घरों के छोटे-मोटे कामों से लेकर साफ-सफाई जैसे झाड़ू-पोछा आज भी औरतें ही करती हैं. उनसे जुड़ी एक रिसर्च सामने आई है.  

इस रिसर्च के मुताबिक सफाईकर्मी के तौर पर काम करने वाली महिलाएं या घर पर लगातार क्लीनिंग स्प्रे का इस्तेमाल करने से आपके फेफड़ों में समय के साथ दिक्कत आ सकती है.

अस्थमा के कारण, लक्षण, बचाव और घरेलू नुस्खे

एक नए अध्ययन में यह पाया गया है कि सफाई का काम न करने वाली महिलाओं के मुकाबले नियमित तौर पर सफाई करने वाली महिलाओं को यह दिक्कत ज्यादा हो सकती है.

भारत में करोड़ों लोगों को जकड़ चुका है अस्थमा, विटामिन डी बन सकती है रामबाण

नॉर्वे की यूनिवर्सिटी ऑफ बर्जन के सेसाइल स्वेन्स ने कहा, “इस संबंध में पर्याप्त प्रमाण मिलते हैं कि सफाई में इस्तेमाल होने वाले रसायनों का दमा की स्थिति पर अल्पकालिक प्रभाव पड़ता है, लेकिन दीर्घकालिक प्रभावों के बारे में अभी जानकारी नहीं मिली है.” 

अस्थमा पीड़ित बच्चे क्या खाएं और क्या नहीं

वैज्ञानिकों ने पाया कि सफाई न करने वाली महिलाओं की तुलना में (9.6 प्रतिशत) उन महिलाओं में दमा की आशंका ज्यादा होती है जो घरों पर सफाई करती हैं (12.3 प्रतिशत) या सफाईकर्मी के तौर पर काम करती हैं (13.7 प्रतिशत).

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह अध्ययन अमेरिकन जर्नल ऑफ रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन में प्रकाशित हुआ है. 

देखें वीडियो - आख़िर सीवर की सफाई हाथों से क्यों?