NDTV Khabar

सैनिटरी नैपकीन को अब दोबारा कर सकेंगी इस्तेमाल, IIT छात्राओं के 'क्लींज राइट' से होगा ये कमाल

आईआईटी बॉम्बे और गोवा की इन छात्राओं ने इस उपकरण का नाम ’क्लींज राइट’ रखा है और इसे पेटेंट के लिए भी भेज दिया है. उनके मुताबिक यह उपकरण 1500 रुपये तक में उपलब्ध हो सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सैनिटरी नैपकीन को अब दोबारा कर सकेंगी इस्तेमाल, IIT छात्राओं के 'क्लींज राइट' से होगा ये कमाल

सैनिटरी नैपकिन को साफ करने के लिए आईआईटी की छात्राओं ने बनाया उपकरण

नई दिल्ली:

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) की दो छात्राओं ने सैनिटरी नैपकिन को साफ करके उसके दोबारा इस्तेमाल के लिए एक उपकरण बनाया है. इस उपकरण से बायोमेडिकल कचरे में कमी आएगी. 

आईआईटी बॉम्बे और गोवा की इन छात्राओं ने इस उपकरण का नाम 'क्लींज राइट' रखा है और इसे पेटेंट के लिए भी भेज दिया है. उनके मुताबिक यह उपकरण 1500 रुपये तक में उपलब्ध हो सकता है.

सेब के साथ कहीं आप लाखों बैक्टीरिया तो नहीं निगल रहे? ऐसे करें पहचान

आईआईटी-बॉम्बे की इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की छात्रा ऐश्वर्या ने बताया कि मासिक धर्म के दौरान सफाई को लेकर बढ़ रही जागरूकता से बड़ी संख्या में महिलाएं अब एक बार प्रयोग करके फेंकने वाला सैनिटरी पैड इस्तेमाल करने लगी हैं. ये पैड नॉन-बायोग्रेडेबल प्लास्टिक से बने होते हैं और बायोमेडिकल कचरे में तब्दील होते हैं. 

इस बॉलीवुड एक्टर ने होटल में मंगवाए 2 केले, बिल से उड़े होश, VIDEO देख लोग बोले - गोल्ड प्लेटिड केले


उन्होंने कहा कि एक महिला अपनी जिंदगी में मासिकधर्म के कुल चक्र में करीब 125 किलोग्राम तक नॉन बायोग्रेडेबल कचरा पैदा करती है और एक सिंथेटिक पैड के घुलने में करीब 500-800 साल लगते हैं

इस उपकरण का इस्तेमाल पैड साफ करने के लिए बिना बिजली के भी किया जा सकता है. इसमें बिजली की जरूरत नहीं होती है.

इनपुट - आईएएनएस

टिप्पणियां

VIDEO: सैनेटरी पैड से हटाया गया GST



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement