11वीं की छात्रा दे सके एग्जाम इसलिए सरकारी विभाग ने ऐसे की मदद, चलाई 70 सीट वाली बोट और...

सैंड्रा ने आखिर में राज्य जल विभाग को फोन किया और उन्हें अपनी स्थिति समझाई. इस पर राज्य जल विभाग ने सैंड्रा को चौंकाते हुए वादा किया कि जिस दिन उसकी परीक्षा है, उस दिन नाव की व्यवस्था कर दी जाएगी, ताकि वह बिना किसी परेशानी के अपनी परीक्षा दे सकें.

11वीं की छात्रा दे सके एग्जाम इसलिए सरकारी विभाग ने ऐसे की मदद, चलाई 70 सीट वाली बोट और...

केरल जल परिवहन विभाग ने छात्रा की परीक्षा देने में मदद की.

केरल (Kerala) में 11वीं में पढ़ने वाली एक छात्रा अपनी परीक्षाएं दे सके केवल इसलिए केरल राज्य जल विभाग (Kerala State Water Department) ने 70 सीट वाली अपनी नाव चलाई और इस घटना ने लोगों का दिल जीत लिया. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस छात्रा का नाम सैंड्रा है, जिस लगा था कि लॉकडाउन के बाद दोबारा जारी हुई परीक्षा की तारीखों पर वह परीक्षा देने के लिए नहीं जा पाएगी.

दरअसल, सैंड्रा अलाप्पुझा में अपने माता-पिता के साथ रहती है, जो दिहाड़ी मजदूर हैं. लॉकडाउन की वजह से परीक्षाओं की नई तारीखों का ऐलान किए जाने के बाद उसे लगा कि वह किसी भी तरह से कोट्टयम नहीं पहुंच सकती, जो उसके घर से करीब 30 किलोमीटर दूर है. सैंड्रा ने यह मान ही लिया था कि इस बार वह अपनी परीक्षाएं नहीं दे पाएगी.

इस वजह से सैंड्रा ने आखिर में राज्य जल विभाग को फोन किया और उन्हें अपनी स्थिति समझाई. इस पर राज्य जल विभाग ने सैंड्रा को चौंकाते हुए वादा किया कि जिस दिन उसकी परीक्षा है, उस दिन नाव की व्यवस्था कर दी जाएगी, ताकि वह बिना किसी परेशानी के अपनी परीक्षा दे सकें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सैंड्रो, 70 सीट वाली नांव पर एक अकेली पैसेंजर थी लेकिन विभाग ने सुनिश्चित किया कि इस दौरान पूरा क्रू मौजूद रहे. नाव पर एक ड्राइवर, बोट मास्टर और अन्‍य स्‍टाफ मौजूद था. बोट ने सैंड्रा को उसके घर के नजदीक जैटी से पिक किया और कोट्टयम में उसके एग्जाम सेंटर तक पहुंचाया. इतना ही नहीं, उन्होंने वहां सैंड्रा का एग्जाम खत्‍म होने का भी इंतजार किया ताकि उसे वापस घर छोड़ सकें.

बोट ने लगातार दो दिन तक सैंड्रा को उसके घर से पिक किया और वापस छोड़ा. सैंड्रा राज्य जल विभाग की इस मदद से काफी खुश है क्योंकि वह अपने एग्जाम दे सकी.