NDTV Khabar

जोड़ों या घुटनों की सर्जरी किस समय करानी चाहिए, जॉइंट इम्प्लांट कब तक देते हैं साथ, जानिए यहां

यदि मरीज के घुटनों की मोबिलिटी वजह से चलना फिरना सीमित हो गया है और वह अपने दैनिक गतिविधियों को अच्छी तरह से नहीं कर पा रहे हैं, जैसे कि सीढियां चढ़ना, सैर पर जाना, तो उन्हें टीकेआर करा लेना चाहिए. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जोड़ों या घुटनों की सर्जरी किस समय करानी चाहिए, जॉइंट इम्प्लांट कब तक देते हैं साथ, जानिए यहां

घुटनों की सर्जरी से जुड़े मिथक को तोड़ने की जरूरत : चिकित्सक

नई दिल्ली:

नी आर्थराइटिस कोई बीमारी नहीं है, बल्कि जोड़ों में सूजन, उनके घिसने की समस्या है. कई सारे आर्थराइटिस मरीज मनोवैज्ञानिक ब्लॉक की वजह से पीड़ादायक और सीमित जिंदगी जीते हैं, जिसकी वजह से वह सर्जरी के विकल्प को अपनाने से बचते रहते हैं. इसलिए घुटनों की सर्जरी से जुड़े मिथकों को तोड़ने की जरूरत है.

ऐसा अनुमान है कि लगभग 4.5 से 5 करोड़ लोग आर्थराइटिस की समस्या से जूझ रहे हैं, लेकिन उनमें से लगभग 5 लाख लोगों को जीवन में कभी न कभी घुटनों की सर्जरी या फिर टोटल नी रिप्लेसमेंट (टीकेआर) की जरूरत होती है. 

मौसम कोई भी हो, अपने बालों और चेहरे को खूबसूरत बनाए रखने के लिए कभी ना भूलें ये 3 बातें

नोएडा के कैलाश हॉस्पिटल के सीनियर आथोर्पेडिक सर्जन तथा आर्थराइटिस फाउंडेशन ऑफ इंडिया के चेयरमैनए डॉ. सुशील शर्मा के अनुसार, भारत में वर्तमान में हर साल 1,20,000 नी रिप्लेसमेंट किए जाते हैं. घुटनों की सर्जरी से जुड़े मिथक पर डॉ. शर्मा यहां पेश कर रहे हैं जानकारी : 


सर्जरी के लिए उम्र कोई बाध्यता है?

डॉ. सुशील शर्मा ने कहा कि इसमें उम्र नहीं बल्कि चलना-फिरना मायने रखता है. रूमेटॉयड आर्थराइटिस के मरीज को बहुत ही कम उम्र में टीकेआर करवाने की जरूरत पड़ सकती है, जबकि ऑस्टियोआर्थराइटिस के मरीजों को इसे अधिक उम्र में लगभग 15 साल बाद करवाने की जरूरत पड़ती है.

ये विटामिन कैंसर के मरीजों की बढ़ा सकता है उम्र, तीन साल लगातार खाएं

यदि मरीज के घुटनों की मोबिलिटी वजह से चलना फिरना सीमित हो गया है और वह अपने दैनिक गतिविधियों को अच्छी तरह से नहीं कर पा रहे हैं, जैसे कि सीढियां चढ़ना, सैर पर जाना, तो उन्हें टीकेआर करा लेना चाहिए. 

यदि कोई मरीज एक किलोमीटर या 2 किलोमीटर भी नहीं चल सकता तो उसके एक्सरे में गंभीर क्षति/बदलाव नजर आता है, तो बेहतर है कि सर्जरी करा ली जाए. 

वैज्ञानिक उन्नति होने से जॉइंट इम्प्लांट्स में काफी बदलाव आ गए हैं और ये 20 से 25 सालों तक चलते हैं. 55 साल से अधिक उम्र के लोग जो टीकेआर करवाते हैं उन्हें अपने जीवनकाल में शायद ही दूसरी सर्जरी करवाने की नौबत आती है. 

नी सर्जरी के बाद लोग एक्सराइज कर सकते हैं, साइकिल चला सकते हैं और लंबी दूरी की वॉक कर सकते हैं.

कोलेस्ट्रॉल और हाई बीपी से परेशान हैं तो पीजिए टमाटर का जूस, फिर देखिए कमाल

इनपुट - आईएएनएस

टिप्पणियां

VIDEO: आर्थराइटिस से कैसे पाएं निजात



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement