रिश्ते को बनाए रखना है खूबसूरत, तो इन बातों का रखें ध्यान...

जब रिश्ते में कडवाहटें आती हैं, तो फिर दुनिया को देखने का नजरिया बदल जाता है. सब कुछ बेकार, बेजान और नीरस लगने लगता है. रिश्ते में ऐसी स्थिति को आने से रोका जा सकता है बस कुछ बातों का ध्यान रख कर- 

रिश्ते को बनाए रखना है खूबसूरत, तो इन बातों का रखें ध्यान...

प्यार एक ऐसा अहसास है, जो दुनिया को देखने का नजरिया ही बदल देता है. प्यार होने पर सब कुछ नया नया और खूबसूरत लगने लगता है. किसी की कमियां या गलितयां भी नजर नहीं आती. सब कुछ अच्छा और सुंदर लगने लगता है. लेकिन जब इसी रिश्ते में कडवाहटें आती हैं, तो सब कुछ ठीक इसके उलट हो जाता है. एक बार फिर दुनिया को देखने का नजरिया बदल जाता है. सब कुछ बेकार, बेजान और नीरस लगने लगता है. रिश्ते में ऐसी स्थिति को आने से रोका जा सकता है बस कुछ बातों का ध्यान रख कर- 

सरप्राइज़ देते रहें
अपने साथी को सरप्राइज़ देते रहें. फ्रिज के बाहर एक छोटा-सा पत्र लिखकर चिपका दें और फ्रिज के अंदर साथी की पसंद की कोई चीज रख दें, इससे उन्‍हें बहुत अच्‍छा लगेगा. हर छोटी से छोटी खुशी पर मिलकर जश्‍न मनाएं. छोटी-छोटी खुशियों को जीवन में अहमियत देने से आप दोनों के रिश्‍ते को मजबूती मिलेगी और आप एक-दूसरे की पसंद-नापसंद को अच्‍छी तरह समझ सकेंगे.

मिलकर मुस्‍कुरा सकें
अपने बीच ऐसा माहौल बनाएं कि आप दोनों मिलकर मुस्‍कुरा सकें. अगर आप दोनों जीवन की विपरीत परिस्थितियों में भी साथ हंस सकते हैं, तो इससे बेहतर रिश्‍ता जीवन में कोई और नहीं हो सकता. कभी भी उस समय गंभीर विषयों पर चर्चा न करें, जब आप में से किसी एक को भी गुस्‍सा आया हो. गंभीर विषयों पर निर्णय लेने के लिए गुस्‍सा ठंडा होने तक इंतजार करें, अन्‍यथा नतीजे बुरे हो सकते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

जड़ को समझें 
जब भी आप दोनों के बीच बहस हो, तो एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्‍यारोप लगाने के बजाए समस्‍या की जड़ को समझें और अपनी गलती मानकर माफी मांग लें. ऐसा करने से आप छोटे नहीं होंगे. हर बात पर बहस करना ठीक नहीं है. अगर कोई मुद्दा जो आप दोनों के बीच कोई महत्‍व ही नहीं रखता, बहस का विषय बन गया है, तो आगे बढ़ें और भविष्‍य में छोटी-छोटी बातों को तूल देने से बचें.

ख्याल रखें
रिश्ते में सुविधा का ध्यान रखना भी जरूरी है. एक-दूसरे की जरूरतों और सुविधाओं का ख्याल रखें. एक-दूसरे पर निर्भरता को लेकर संतुलित रहना चाहिए. अपने साथी को बताएं कि आप दोनों को एक-दूसरे की कितनी जरूरत है.