NDTV Khabar

बच्चों के सामने लड़ाई या मारपीट करने से भविष्य में हो सकती हैं उन्हें ये बीमारियां

मनोविकार के प्रचलन पर पूर्व में हुई हिंसक घटनाओं और सामाजिक- आर्थिक स्थिति के प्रभाव को समझने के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने180 छात्रों और उनके देख- रेख करने वालों का साक्षात्कार लिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बच्चों के सामने लड़ाई या मारपीट करने से भविष्य में हो सकती हैं उन्हें ये बीमारियां

बचपन में हुई हिंसा से हो सकता है मनोविकार : अध्ययन

खास बातें

  1. बचपन में हिंसा के संपर्क में आने से होती हैं मानसिक विकृतियां
  2. पढ़ाई में ध्यान लगाने में होती है दिक्कत
  3. डिप्रेशन का सबसे बड़ा खतरा
नई दिल्ली: बचपन में हिंसा के संपर्क में आने से मानसिक विकृतियां हो सकती हैं. एक अध्ययन में यह बात सामने आई है.

परिणाम दर्शाते हैं कि बचपन में किसी सदमे से गुजरना या सामाजिक- आर्थिक स्थिति निम्नतर होने का संबंध अवसाद या व्याकुलता जैसे अंदरूनी विकारों और ध्यान की कमी या ध्यान ना देना से है.

शरीर को मोटा ही नहीं, 8 घंटे से कम नींद लेने वालों में बढ़ रही है ये बीमारी भी

मनोविकार के प्रचलन पर पूर्व में हुई हिंसक घटनाओं और सामाजिक- आर्थिक स्थिति के प्रभाव को समझने के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने180 छात्रों और उनके देख- रेख करने वालों का साक्षात्कार लिया.

मोटापा करे कम और डिप्रेशन भगाए दूर, ये हैं तीखी मिर्च खाने के फायदे

अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने अंदरूनी विकारों (अवसाद, व्याकुलता और सदमे के बाद होने वाला तनाव) और बाहरी विकारों (ध्यान की कमी या ध्यान ना देना, आचरण विकार और बड़ों के साथ शैतानी व्यवहार) का अध्ययन किया. 

डिप्रेशन से बचाए लाइफ को हैपी बनाएं, रोज़ाना खाएं ये 1 फल

उन्होंने पाया कि करीब 22 प्रतिशत युवाओं में मनोविकार देखा गया. इनमें अवसाद (9.5 प्रतिशत) और ध्यान की कमी या ध्यान ना देना (9 प्रतिशत) बहुत आम थे.

यह अध्ययन ब्राजीलियन जर्नल ऑफ साइकाइट्री में प्रकाशित हुआ है.

टिप्पणियां
देखें वीडियो - डिप्रेशन का इलाज समय पर करवाएं​




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement