NDTV Khabar

एक साथ मौत को गले लगाना चाहता है ये कपल, इसके पीछे है बहुत बड़ी वजह

इस कपल का कहना है कि इनको डर है कि एक के भी मौत के बाद दूसरा अकेले कैसे जिएगा. इसके अलावा दोनों का यह भी कहना है कि वो दोनों अपने जीवन से थक चुके हैं, इसीलिए अब मरना चाहते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एक साथ मौत को गले लगाना चाहता है ये कपल, इसके पीछे है बहुत बड़ी वजह

मुम्बई के एक कपल ने की साथ मरने की मांग

खास बातें

  1. इच्छा मृत्यु करना चाहता है कपल
  2. साल 2017 दिसम्बर में भेजी राष्ट्रपति को चिठ्ठी
  3. राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से लगाई 'मर्सी डेथ' की गुहार
नई दिल्ली: प्यार में साथ में जीना और साथ मरना...ये लाइन आपने बहुत-सी बॉलीवुड फिल्मों में सुनी होंगी. कई बार विलेन से लड़ते-लड़ते ये कसम हीरो और हीरोइन एक-दूसरे के लिए खाते हैं. असल जिंदगी में ये कसमें आपको लोट-पोट हसंने पर मजबूर कर दें. लेकिन आपको बता दें आज भी ऐसे कई रियल लाइफ कपल मौजूद हैं, जो एक साथ जीने के बाद अब एक साथ मरना चाहते हैं. एक साथ मरने के लिए इस कपल से राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से गुहार भी लगाई है. 

इस भारतीय कपल ने 40 देश में अलग-अलग तरह से किया KISS, फोटोज वायरल

ये कपल मुम्बई से है. महिला इरावती लवाते 78 साल की हैं, जो कि पेशे से रिटायर्ड स्कूल प्रिंसिपल रह चुकी हैं. वहीं, उनके पति नारायण लवाते 87 साल के हैं जो रिटायर्ड स्टेट ट्रांसपोर्ट ऑफिसर रह चुके हैं. इन दोनों ने मिलकर भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से 'मर्सी डेथ' की मांग की है. 

नारंगी पासपोर्ट : जानें इसके बारे में सबकुछ, कैसे ये भारतीयों को कर सकता है 'शर्मिंदा'​

क्या होती है मर्सी डेथ?
इसे हिंदी में इच्छा मृत्यु कहा जाता है. नाम से ही स्पष्ट है कि इसमें खुद की मर्जी से मरने की सरकार से गुहार लगाई जाती है. मेडिकल साइंस में इच्छा-मृत्यु का मतलब है किसी की मदद से आत्महत्या और सहज मृत्यु या बिना कष्ट के मरना. वहीं, भारत में इच्छा मृत्यु को अवैधानिक काम माना गया है. क्योंकि भारतीय दंड विधान (आईपीसी) की धारा 309 के अंतर्गत आत्महत्या (suicide) को अपराध माना गया है. 

आम सैनिटरी नैपकिन नहीं आपकी सेहत के लिए बेस्‍ट हैं बायोडिग्रेडेबल पैड, दीया मिर्जा भी करती हैं इस्‍तेमाल​

बॉलीवुड में इच्छा मृत्यु
रितिक रोशन और ऐश्वर्या राय की फिल्म 'गुजारिश' भी इच्छा मृत्यु पर आधारित थी. वहीं, 25 जनवरी को रिलीज़ हो रही फिल्म 'पद्मावत' के विरोध में भी राजस्थान के चित्तौडगढ़ की कुछ महिलाएं इच्छा मृत्यु की मांग कर रही हैं. आपको बता दें चित्तौडगढ किले में ही अलाउद्दीन खिजली के आक्रमण के दौरान अपने आत्मसम्मान के लिए मेवाड़ की रानी पद्मिनी ने 16 हजार महिलाओं के साथ 1303 ईस्वी में जौहर (खुद को जला लेना) किया था.
Movie Review Film Padmaavat: जानें क्यों देखनी चाहिए संजय लीला भंसाली की 'पद्मावत'​
 
padmawati

क्या कहना है इस कपल का?
इस कपल का कहना है कि इनको डर है कि एक के भी मौत के बाद दूसरा अकेले कैसे जिएगा. इसके अलावा दोनों का यह भी कहना है कि वो दोनों अपने जीवन से थक चुके हैं, इसीलिए अब मरना चाहते हैं. नारायण लवाते ने इच्छा मृत्यु की दर्ख्वास्त साल 2017 दिसम्बर में की थी. आपको बता दें ये कपल मुम्बई के एक ग्रुप 'Right to Die with Dignity' के सदस्य भी हैं. 

टिप्पणियां
 देखें वीडियो - आखिर क्यों हो रहा है फिल्म 'पद्मावत' का विरोध?​




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement