मॉडल को आंखों में ब्लैक टैटू बनवाना पड़ा भारी, चली गई रोशनी

आईबॉल टैटू को Scleral Tattoos भी कहा जाता है. यह बॉडी मॉडीफिकेशन का एक तरीका है, जिसमें किसी भी इंसान की आंखों के सफेद हिस्से में अलग-अलग रंग की इंक को इंजेक्ट किया जाता है.

मॉडल को आंखों में ब्लैक टैटू बनवाना पड़ा भारी, चली गई रोशनी

अलेक्जेंड्रा ने अपनी आईबॉल पर ब्लैक कलर का टैटू बनवाया था.

नई दिल्ली:

एक मॉडल को अपनी आंखों में टैटू बनवाना काफी भारी पड़ रहा है. इस वजह से मॉडल की एक आंख की रोशनी पूरी तरह से चली गई है और जल्द ही उसकी दूसरी आंख की रोशनी भी जा सकती है. पोलैंड के व्रोकला में रहने वाली अलेक्जेंड्रा सदोव्स्का, रैप आर्टिस्ट पोपेक की तरह आईबॉल (Eye Ball) को काला करना चाहती थी और इसलिए वह एक टैटू ऑर्टिस्ट के पास गई थी.

आईबॉल टैटू को Scleral Tattoos भी कहा जाता है. यह बॉडी मॉडीफिकेशन का एक तरीका है, जिसमें किसी भी इंसान की आंखों के सफेद हिस्से में अलग-अलग रंग की इंक को इंजेक्ट किया जाता है. हालांकि, इस प्रक्रिया के दीर्घकालिक प्रभावों के बारे में अभी अधिक जानकारी नहीं है. 

डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक 25 साल की इस मॉडल को आईबॉल में टैटू बनवाने के बाद से ही लगातार दर्द हो रहा था. महिला ने एक लोकल टैटू आर्टिस्ट से यह टैटू बनवाया था. दर्द की शिकायत करने पर टैटू आर्टिस्ट ने उसे कुछ सामान्य पेनकिलर लेने के लिए कहा था. अब उस टैटू आर्टिस्‍ट को 3 साल की सजा सुनाई गई है. 

Newsbeep

जांच में सामने आया है कि आईबॉल में टैटू बनाते वक्त आर्टिस्ट ने बहुत बड़ी गलती की थी. टैटू आर्टिस्ट ने बॉडी इंक का इस्तेमाल किया था, जो आंखों के लिए हानिकारक होती है. आंखों की रोशनी को वापस लाने के लिए अलेक्जेंड्रा की 3 सर्जरी की गई हैं लेकिन डॉक्टर्स का कहना है कि उनकी आंखों की रोशनी लौटने की संभावना काफी कम है क्योंकि इंक उनके टिशू तक पहुंच गई है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


द मिरर के मुताबिक अलेक्जेंड्रा ने बताया कि डॉक्टरों के मुताबिक आंखों की रोशनी लौटने की संभावना कम है. अलेक्जेंड्रा ने आगे कहा कि उसे डर है कि कहीं उसकी आंखों की रोशनी पूरी तरह से न चली जाए.