मोटापे से युवाओं में 17 साल की आयु में भी हो सकता है दिल के रोगों का खतरा

ब्रिटेन के ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कहा है कि बीएमआई के बढ़ने के कारण युवा अवस्था में ही दिल संबंधी रोगों के चपेट में आने की संभावना है.

मोटापे से युवाओं में 17 साल की आयु में भी हो सकता है दिल के रोगों का खतरा

17 साल की उम्र में भी हो सकता है दिल के रोगों का खतरा

कोपेनहेगन:

सामान्य से ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की वजह से अधेड़ और इससे अधिक की आयु में दिल के रोगों का खतरा रहता है. लेकिन एक नए शोध में पता चला है कि उच्च बीएमआई से 17 साल की आयु में भी दिल संबंधी रोगों का खतरा हो सकता है. ब्रिटेन के ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कहा है कि बीएमआई के बढ़ने के कारण युवा अवस्था में ही दिल संबंधी रोगों के चपेट में आने की संभावना है.

ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के शोध सहायक कौटलीन वाडे ने कहा, "हमारे परिणाम बताते हैं कि उच्च बीएमआई का प्रभाव हमारे बाएं वेंट्रिकल से पंप किए जाने वाले खून के आयतन पर पड़ता है. यह वह  भाग है, जिसमें अधिक बीएमआई का कार्डियक हाइपरट्रोफी व उच्च रक्त चाप पर असर देखा जा सकता है."

शोधकर्ताओं ने पाया है कि मोटापा से युवा वयस्कों में दिल की बीमारी हो सकती है. इसके विपरीत उच्च बीएमआई से इस समूह के दिल की धड़कन पर कोई असर नहीं पड़ता है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com