पढ़ते-पढ़ते मूड हो जाए खराब तो ट्राय करें ये तरीका, रिसर्च में बताई ये आसान तरकीब

इस अध्ययन में 249 कॉलेज विद्यार्थियों को शामिल किया गया जिन्हें चार समूहों में बांट दिया गया. इनमें से पहले समूह को कुत्ते और बिल्लियों संग दस मिनट का समय बिताने को दिया गया.

पढ़ते-पढ़ते मूड हो जाए खराब तो ट्राय करें ये तरीका, रिसर्च में बताई ये आसान तरकीब

कुत्ते, बिल्लियों को पालने से छात्रों में तनाव में हो सकती है कमी

न्यूयॉर्क:

आधुनिक समय में कॉलेज में तनावपूर्ण होते हैं, विद्यार्थियों को कक्षाएं, परीक्षाएं और ऐसी ही कई चीजों का दबाव रहता है. शोधकर्ताओं ने हाल ही में एक शोध में इस बात का पता लगाया है कि कुत्ते या बिल्ली पालने से विद्यार्थियों को तनाव से राहत देने वाले शारीरिक लाभों के साथ-साथ उनके मूड में सुधार लाया जा सकता है. जर्नल एईआरए ओपन में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, कई विश्वविद्यालयों ने 'पेट योर स्ट्रेस अवे' कार्यक्रम चलाया है, जहां विद्यार्थी आकर कुत्ते और बिल्लियों से बात कर सकते हैं, उनके साथ खेल सकते हैं.

वाशिंगटन स्टेट यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर पेट्रीसिया पेंड्री ने कहा, "सिर्फ दस मिनट से महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है. हमारे अध्ययन में जिन विद्यार्थियों ने कुत्ते और बिल्लियों संग समय बिताया उनमें कॉर्टिसोल हॉरमोन में उल्लेखनीय कमी पाई गई. यह तनाव पैदा करने वाला एक प्रमुख हॉरमोन है."

#SareeTwitter में प्रियंका गांधी वाड्रा और यामी गौतम ही नहीं आम महिलाओं की ये तस्वीरें भी हुईं Viral

इस अध्ययन में 249 कॉलेज विद्यार्थियों को शामिल किया गया जिन्हें चार समूहों में बांट दिया गया. इनमें से पहले समूह को कुत्ते और बिल्लियों संग दस मिनट का समय बिताने को दिया गया.

परीक्षण में पाया गया कि जिन विद्यार्थियों ने जानवरों संग वक्त बिताया, इस मुलाकात के बाद उनके लार में कॉर्टिसोल बहुत कम पाया गया.

Gujarat 12th Exam में जमकर हुई नकल, 959 छात्रों ने लिखा एक जैसा जवाब, गलतियां भी एक जैसी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पेंड्री का कहना है कि हम बस यह देखना चाहते थे कि इस तरह के कार्यकलाप से तनाव में कमी आती है या नहीं और इससे तनाव में कमी आई. यह काफी रोमांचक है क्योंकि हो सकता है कि स्ट्रेस हॉरमोन में कमी वक्त के साथ शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को महत्वपूर्ण लाभ पहुंचाए.

इनपुट-आईएएनएस