NDTV Khabar

पुरानी जीन्स से बनाए जाएंगे नए कपड़े, वैज्ञानिकों ने निकाला ये सस्ता तरीका

कपड़ों के पुनर्चक्रण के लिए प्रक्रियाएं मौजूद हैं लेकिन वे निष्प्रभावी एवं महंगी होती हैं. खराब हो चुके डेनिम को फिर से इस्तेमाल हो सकने वाले सूती के कपड़ों में प्रभावी ढंग से परिवर्तित करने से इन दोनों ही समस्याओं से निजात मिल सकती है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुरानी जीन्स से बनाए जाएंगे नए कपड़े, वैज्ञानिकों ने निकाला ये सस्ता तरीका
मेलबर्न:

वैज्ञानिकों ने कम कीमत वाली एवं एक प्रभावी प्रक्रिया विकसित की है जिसके जरिए बेकार हो चुके डेनिम को फिर से इस्तेमाल हो सकने वाले सूती के कपड़ों बदला जा सकता है. यह ऐसी प्रगति है जो हर साल विश्व भर में बेकार कपड़ों के कारण बनने वाले कूड़े के पहाड़ को खत्म करने में कारगर होगी.

कपड़ों संबंधी कचरे में सूती से बनने वाले डेनिम जैसे कपड़े सबसे ज्यादा शामिल होते हैं. वहीं, कपास की खेती करने के लिए जमीन एवं संसाधनों की जरूरत होती है. 

कपड़ों के पुनर्चक्रण के लिए प्रक्रियाएं मौजूद हैं लेकिन वे निष्प्रभावी एवं महंगी होती हैं. खराब हो चुके डेनिम को फिर से इस्तेमाल हो सकने वाले सूती के कपड़ों में प्रभावी ढंग से परिवर्तित करने से इन दोनों ही समस्याओं से निजात मिल सकती है. 

International Yoga Day 2019: योग दिवस के इतिहास के साथ जानिए Yoga Day से जुड़ी खास बातें


ऑस्ट्रेलिया की डेकिन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने बेकार डेनिम से विस्कस प्रकार के रेयॉन तैयार किए. 

पूर्व में शोधकर्ताओं ने सूती कपड़ों को घोलने के लिए आयनिकृत द्रव का प्रयोग किया है लेकिन ये बहुत महंगे होते हैं साथ ही इनके चिपचिपेपन की वजह से इन पर काम करना भी मुश्किल होता है. 

इस बार शोधकर्ताओं ने इस विलायक (सॉल्वेंट) की कीमत को 70 फीसदी तक घटाने में सफलता हासिल की है. उन्होंने तीन तरह के कपड़ों का चूरा बनाया और उसे आयनी द्रव 1 बुटाइल-3-मिथाइलीमिडजोलियम एसिटेट और डाइमिथाइल सल्फोक्साइड (डीएमएसओ) के एक चौथाई मिश्रण में घोला.

Yoga Day 2019: 21 जून को है योग दिवस, इस मैसेजेस को भेजकर कहें Happy Yoga day

इस मिश्रण से शोधकर्ताओं को आयनी द्रव की कम मात्रा प्रयोग करनी पड़ी साथ ही इसने इस द्रव के चिपचिपेपन को भी घटाया.

टिप्पणियां

VIDEO: गुस्ताखी माफ : गोमूत्र वाली संस्कारी जींस



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement