NDTV Khabar

अब सिर्फ 1 रुपये में मिलेगा सैनेटरी पैड, इन दुकानों पर आज से उपलब्ध

बायोडिग्रेडेबल का अर्थ होता है ऐसा पदार्थ या चीज़ जो किसी बैक्टिरिया या जीव जंतु से नष्ट किया जा सके. बायोडिग्रेडेबल नैपकिन्स भी इस्तेमाल करने के बाद बैक्टिरिया या जीव जंतु से नष्ट हो जाते हैं. क्योंकि मार्केट में मिलने वाले सिंथेटिक फाइबर जैसे प्लास्टिक से बनने वाले पैड्स से जमा होने वाला कचरा पर्यावरण को बहुत दूषित करता है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब सिर्फ 1 रुपये में मिलेगा सैनेटरी पैड, इन दुकानों पर आज से उपलब्ध

पैड सिर्फ 1 रुपये में

नई दिल्ली:

महिलाओं की पीरियड्स संबंधी स्वास्थ्य को और बेहतर बनाने के लिए अब जन औषधि केंद्रों पर सैनिटरी पैड्स सिर्फ 1 रुपये में मिला करेंगे, जो फिलहाल 2.50 रुपये में मिलते हैं. देश में मौजूद जन औषधि केंद्रों पर बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन 'सुविधा' 27 अगस्त से 1 रुपये में मिलेंगे. अब तक चार पैड्स वाला पैक 10 रुपये में मिलता था, लेकिन अब ये सिर्फ 4 रुपये में मिलेगा. 

रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बताया कि, "हम 27 अगस्त से 1 रुपये में मिलने वाले ओक्सो-बायोडेग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन लॉन्च कर रहे हैं. ये नैपकिन्स 'सुविधा' में ही मिलेंगे, जो देश में मौजूद 5500 जन औषधि केंद्रों पर मिलेंगे."

आम सैनिटरी नैपकिन नहीं आपकी सेहत के लिए बेस्‍ट हैं बायोडिग्रेडेबल पैड, जानिए इसके बारे में सबकुछ


राज्य मंत्री ने आगे बताया कि 2019 लोकसभा इलेक्शन के दौरान चुनावी घोषणा पत्र में पैड का दाम कर करने का वादा किया था , जिसे हमने पूरा कर दिया. हमने पैड की कीमत 60 प्रतिशत तक कम कर दी. 

साल 2018 में 2.2 करोड़ सैनिटरी नैपकीन की बिक्री हुई थी, जो कि अब दाम कम होने के बाद और बढ़ेगी. राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने आगे कहा कि हम दाम करने के साथ-साथ क्वालिटी का भी ध्यान रख रहे हैं. इस वक्त मार्केट में पैड की कीमत 6 से 8 रुपये है, लेकिन जन औषधि केंद्रों पर यह सिर्फ 1 रुपये में मिलेंगे.

क्या होते हैं Menstrual Cups? क्यों ये सैनिटरी नैपकिन और टैम्पॉन से बेहतर है

आपको बता दें, बायोडिग्रेडेबल का अर्थ होता है ऐसा पदार्थ या चीज़ जो किसी बैक्टिरिया या जीव जंतु से नष्ट किया जा सके. इससे भविष्य में किसी भी प्रकार से पर्यावरण को दूषित नहीं होता. बायोडिग्रेडेबल नैपकिन्स भी इस्तेमाल करने के बाद बैक्टिरिया या जीव जंतु से नष्ट हो जाते हैं. क्योंकि मार्केट में मिलने वाले सिंथेटिक फाइबर जैसे प्लास्टिक से बनने वाले पैड्स से जमा होने वाला कचरा पर्यावरण को बहुत दूषित करता है. 

VIDEO: यहां फ्री में मिलते हैं पैड्स

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement