NDTV Khabar

ऑफिस में Smoke करने वाले बढ़ा रहे हैं ये परेशानी, दूसरों को इस तरह कर रहे हैं बीमार

ऑफिस में जहां करीब एक दशक पहले 29.9 फीसदी लोग दूसरों के धूम्रपान से प्रभावित होते थे वहां अब 30.2 फीसदी हो रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ऑफिस में Smoke करने वाले बढ़ा रहे हैं ये परेशानी, दूसरों को इस तरह कर रहे हैं बीमार

कार्यस्थलों पर सेकेंड हैंड स्मोक के मामले बढ़े

खास बातें

  1. सेकेंड हैंड स्मोक के मामले बढ़े
  2. ऑफिस में अब 30.2 फीसदी लोग इससे प्रभावित
  3. पहले यह सिर्फ 29.9 फीसदी था
नई दिल्ली: घरों व सार्वजनिक स्थलों पर सिगरेट व बीड़ी का धुआं दूसरों को पिलाने यानी सेकेंड हेंड स्मोक के मामले में जहां पिछले कुछ साल के दौरान कमी आई है वहीं कार्यस्थलों पर इसके मामलों में बढ़ोतरी हुई है. कार्यस्थलों पर जहां करीब एक दशक पहले 29.9 फीसदी लोग दूसरों के धूम्रपान से प्रभावित होते थे वहां अब 30.2 फीसदी हो रहे हैं. ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे (जीएटीएस), इंडिया-2017 के अनुसार, वर्ष 2009-2010 से लेकर अब तक सेकंडहैंड स्मोक (एसएचएस) यानी धूम्रपान कर दूसरों को धुआं पिलाने के मामले सार्वजनिक स्थानों पर 29 फीसदी से घटकर 23 फीसदी रह गए हैं और घरों में ऐसे मामले 52 फीसदी से घटकर 39 फीसदी दर्ज हो गए हैं, जबकि कार्यस्थलों पर इसमें वृद्धि हुई है. 

Smoke करने वाले ही नहीं उनके आस-पास रहने वाले भी हो रहे हैं इस बीमारी का शिकार, रोजाना 1183 भारतीयों की मौत

रिपोर्ट में बताया गया है कि कार्यस्थलों पर जहां करीब एक दशक पहले 29.9 फीसदी लोग दूसरों के धूम्रपान से प्रभावित होते थे वहां अब 30.2 फीसदी हो रहे हैं.

सोते वक्त निकालते हैं आवाज? छुटकारे के लिए अपनाएं ये 5 आसान टिप्स

इस सर्वेक्षण में बताया गया है कि मीडिया के माध्यम से चलाए जा रहे प्रचार अभियान तंबाकू नियंत्रण नीतियां बनाने और लोगों को धूम्रपान बंद करना सबसे कारगर रहे हैं. 

खर्राटों से हैं परेशान? जानें इसे ठीक करने के 5 तरीके

टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के प्रोफेसर व सर्जन डॉ. पंकज चतुर्वेदी ने कहा, "सेकेंड हैंड स्मोक से हृदय प्रभावित होता है और इससे धूम्रपान नहीं करने वालों में धूम्रपान से संबंधित रोग का खतरा पैदा होता है. कार्यस्थलों, सार्वजनिक व अन्य जगहों को धूम्रपान रहित अर्थात धूम्रपान निषेध क्षेत्र बनाने की नीतियों को प्रभावकारी तरीके से लागू करना कारगर उपाय होगा और इससे धूम्रपान नहीं करने वालों को बचाया जा सकता है."

टिप्पणियां
ग्लोबल पॉलिसी एंड रिसर्च के वाइस प्रेसिडेंट डॉ. नंदिता मुरुकुटला ने कहा, "सेकंड हैंड स्मोक के खतरे का कोई सुरक्षित स्तर नहीं है. हमें उम्मीद है कि सेकंड हैंड स्मोक के खतरों को लेकर लोगों की जानकारी बढ़ाने और उनके धूम्रपान करने वालों के व्यवहार में बदलाव लाने में प्रचार अभियान ज्यादा कारगर साबित होगा." (इनपुट - आईएएनएस)

देखें वीडियो - कैसे पाएं धूम्रपान या तंबाकू से छुटकारा
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement