लॉकडाउन में बेटी समीशा को लेकर परेशान हुईं शिल्‍पा शेट्टी, कहा- "एक मां ही जानती है कि दूध..."

देशभर में बहुत से लोग लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से बहुत सी परेशानियों का सामना कर रहे हैं और इस वजह से शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) भगवान की शुक्रगुजार हैं कि उन्हें इस तरह की किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा.

लॉकडाउन में बेटी समीशा को लेकर परेशान हुईं शिल्‍पा शेट्टी, कहा-

शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) ने एक इंटरव्यू में बेटी की देखभाल को लेकर की बात.

नई दिल्ली:

बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी कुंद्रा (Shilpa Shetty Kundra) भी दूसरे लोगों की तरह लॉकडाउन में बहुत सी परेशानियों का सामना कर रही हैं. उन्होंने हाल ही में एक इंटरव्यू में बताया कि लॉकडाउन (Lockdown) ने बहुत सी चीजों को लेकर उनका नजरिया पूरी तरह से बदल दिया है. उन्होंने कहा, ''मैं इन परिस्थितियों को सकारात्मक रूप से देख रही हूं. इस स्थिति ने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया है कि मेरे पास जितने भी डिजाइनर बैग्स और कपड़े हैं वो इन हालातों में किसी भी तरह से काम के नहीं है. मैं फिर से सोचने को मजबूर हो गई हूं कि असल में हमारी जरूरत क्या है. मुझे लगता है कि जरूरतों को इच्छाओं से अलग रखना चाहिए.''

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, देशभर में बहुत से लोग लॉकडाउन की वजह से बहुत सी परेशानियों का सामना कर रहे हैं और इस वजह से शिल्पा शेट्टी भगवान की शुक्रगुजार हैं कि उन्हें इस तरह की किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा. हालांकि, उन्होंने कहा कि उनको भी कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा और वो भी अपनी 3 महीने की बेटी समीशा के लिए, जिनका जन्म सरोगेसी से हुआ है. 

शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) ने कहा, ''मैं इसे परेशानी नहीं कहूंगी क्योंकि फिर सभी लोग हंसेंगे और कहेंगे कि ये कोई परेशानी नहीं है. लेकिन मैं अपनी बेटी (Shilpa Shetty Daughter) को अपना दूध नहीं पिला रही हूं और इस वजह से इतने छोटे शिशु के लिए फॉर्मुला दूध तैयार करना भी एक चैलेंज है. साथ ही बाजार में सही फॉर्मुला नहीं मिल पाना भी मेरे लिए एक बड़ी समस्या थी क्योंकि इंपोर्ट और एक्सपोर्ट भी बंद था. केवल एक मां ही समझ सकती है कि जब उसके बच्चे को एक फॉर्मुले की आदत हो जाए तो इसे बदलना कितना मुश्किल है. ये एक परेशानी जरूर है लेकिन ऐसी नहीं, जिसका सामना ना किया जा सके''. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इसके अलावा उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के बीच उन्हें अपनी बेटी का दूसरा टीकाकरण करने में भी काफी दिक्कत हुई. आपको बता दें, शिशु का दूसरा टीकाकरण 10 से 12 हफ्तों बाद होता है. उन्होंने कहा, ''मुझे सही में बहुत से बाल चिकित्सकों को फोन करना पड़ा और उन्हें मेरे घर आने के लिए मनाना पड़ा ताकि मेरी बेटी का दूसरा टीकाकरण हो सके. क्योंकि मैं अपनी बेटी को घर से बाहर नहीं ले जाना चाहती थी और हम पहले ही 15 दिन की देरी कर चुके थे. तो हां, ये चीजें एक मां के तौर पर मेरे लिए बहुत मुश्किल थीं. मैं अब भी अपनी बेटी को घर से बाहर यहां तक कि आंगन में भी नहीं लेकर गई. ''

शिल्पा शेट्टी ने इंटरव्यू खत्म करने से पहले कहा, ''मेरा घर बीच के नजदीक है और मैंने आज तक इसे कभी इतना साफ नहीं देखा है. यह मुझे महसूस करता है कि हमने पृथ्वी को कितना नुकसान पहुंचाया है. अब हमें अपने ग्रह को साफ रखने की आदत डालनी चाहिए. ''