NDTV Khabar

अब सॉफ्टवेयर से पहचान होगी डीएनए और कोशिकाओं की

अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय के यानीव एरलिच ने कहा, ‘‘हमारा तरीका समाज के लाभ के लिए तैयार प्रौद्योगिकी के नये मार्ग प्रशस्त करना है.’’

35 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब सॉफ्टवेयर से पहचान होगी डीएनए और कोशिकाओं की

प्रतीकात्मक फोटो

अनुसंधानकर्ताओं ने एक ऐसी सॉफ्टवेयर प्रणाली विकसित की है, जिसका इस्तेमाल महज कुछ मिनट में व्यक्ति के डीएनए और कोशिकाओं के सटीक पहचान में किया जा सकता है. ‘ईलाइफ’ जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक इस तकनीक के व्यापक इस्तेमाल हो सकते है. हालांकि इसका सबसे त्वरित उपयोग कैंसर के प्रयोगों में संक्रमित कोशिकाओं की पहचान करने में किया जा सकता है.

लीबिया के सिर्ते में सामूहिक कब्रें मिली, डीएनए से इनकी पहचान होगी

अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय के यानीव एरलिच ने कहा, ‘‘हमारा तरीका समाज के लाभ के लिए तैयार प्रौद्योगिकी के नये मार्ग प्रशस्त करना है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम कैंसर अनुसंधान में कोशिका की पहचान करने की क्षमता और नये उपचारों की खोज में तेजी आने की संभावना को लेकर बहुत उत्साहित हैं.’’ यह सॉफ्टवेयर ‘मिनआयन’ पर काम करेगा. क्रेडिट कार्ड के आकार का उपकरण अपने सूक्ष्म छिद्रों के जरिये विभिन्न डीएनए को अपनी ओर खींचता है. इसके बाद वह न्यूक्लियोटाइड या डीएनए के अक्षरों एटीसीजी के क्रम का विश्लेषण करता है.


चमत्‍कार! प्रेग्‍नेंट महिला फिर से हो गई प्रेग्‍नेंट, दोनों बच्‍चों के पिता भी अलग-अलग

विभिन्न तरह के जीवाणुओं और विषाणुओं के अध्ययन के लिए इस उपकरण का विकास किया गया था लेकिन इसमें बहुत अधिक गलतियां होने और अनुक्रम में बहुत ज्यादा अंतर होने के कारण अब तक इसका प्रयोग मानवीय कोशिकाओं के न्यूक्लियोटाइड के अध्ययन तक सीमित है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement