NDTV Khabar

...तो इस वजह से ऑफिस से ज़्यादा छुट्टियां लेते हैं भारतीय

भारतीय कार्यबल का करीब 46 फीसदी हिस्सा तनाव से जूझ रहा है. यह तनाव निजी कारणों, कार्यालय की राजनीति या काम के बोझ के कारण है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...तो इस वजह से ऑफिस से ज़्यादा छुट्टियां लेते हैं भारतीय

काम के बोझ से 6 घंटे से भी कम सो पाते हैं कर्मचारी

खास बातें

  1. 16 फीसदी लोग मोटापे से पीड़ित
  2. नींद में कमी की सालाना लागत 150 अरब डॉलर
  3. 11 फीसदी लोग अवसाद से पीड़ित
नई दिल्ली: अब तक सिर्फ लोग बोलते ही थे कि काम के बोझ के कारण नींद उड़ जाती है लेकिन इस रिपोर्ट ने यह साबित भी कर दिया. एसोचैम हेल्थकेयर समिति की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में करीब 56 फीसदी कॉरपोरेट कर्मचारी दिन में 6 घंटों से भी कम की नींद लेते हैं, क्योंकि उनके मैनेजर द्वारा दिए गए लक्ष्य के बोझ से उन्हें उच्च स्तर का तनाव हो जाता है, जिसका असर उनकी नींद पर पड़ता. 

क्‍या आपको रात में नींद नहीं आती है? खाने की ये 5 चीजें हैं ज‍िम्‍मेदार

रिपोर्ट में कहा गया, "नियोक्ता द्वारा अनुचित और अवास्तविक लक्ष्य देने के कारण कर्मचारियों की नींद उड़ रही है, जिससे उन्हें दिन में थकान, शारीरिक परेशानी, मनोवैज्ञानिक तनाव, प्रदर्शन में गिरावट और शरीर में दर्द जैसी परेशानियां होती हैं और इसके कारण वे जरुरत से ज्यादा छुट्टियां लेते हैं."

अगर चाहते हैं सुकून की नींद, तो अपनाएं के 5 TIPS

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि नींद में कमी की सालाना लागत 150 अरब डॉलर है, क्योंकि इससे कार्यस्थल पर उत्पादकता घट जाती है. काम का दवाब, सहकर्मियों का दवाब और कठिन बॉस, ये सभी मिलकर लोगों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बिगाड़ रहे हैं.

रिपोर्ट में आगे कहा गया कि भारतीय कार्यबल का करीब 46 फीसदी हिस्सा तनाव से जूझ रहा है. यह तनाव निजी कारणों, कार्यालय की राजनीति या काम के बोझ के कारण है. 

पढ़ाई के साथ अपनाएं ये 4 TIPS, बढ़ेगी मेमोरी और रिजल्ट होगा बेहतर

रिपोर्ट में कहा गया, "यहां मेटाबोलिक सिंड्रोम के मामले बढ़ रहे हैं, जिसमें मधुमेह, उच्च यूरिक एसिड, उच्च रक्त चाप, मोटापा, और उच्च कोलेस्ट्रॉल (भारत में) शामिल है."

रिपोर्ट के मुताबिक, सर्वेक्षण में शामिल 16 फीसदी लोग मोटापा से पीड़ित थे तथा 11 फीसदी लोग अवसाद से पीड़ित थे. 

रिपोर्ट के मुताबिक, उच्च रक्तचाप और मधुमेह से पीड़ित लोगों की संख्या क्रमश: 9 फीसदी और 8 फीसदी है.

रिपोर्ट में कहा गया कि स्पांडिलोसिस (5 फीसदी), हृदय रोग (4 फीसदी), सर्विकल (3 फीसदी), अस्थमा (2.5 फीसदी), स्लिप डिस्क (2 फीसदी) और अर्थराइटिस (1 फीसदी) जैसी बीमारियों कॉरपोरेट कर्मचारियों में आम है. 

रिपोर्ट में बताया गया, "अवसाद, थकान, और नींद विकार ऐसी स्थितियां या जोखिम है, जो अक्सर पुरानी बीमारियों से जुड़ी होती है और उत्पादकता पर सबसे बड़ा प्रभाव डालती है."

टिप्पणियां
INPUT - IANS

देखें वीडियो -  क्या कैशलेस अर्थव्यवस्था मुमकिन है?
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement