World Cancer Day 2020: 4 फरवरी को मनाया जाता है विश्व कैंसर दिवस, जानिए इसके लक्षण, कारण और बचाव

World Cancer Day: शरीर कई प्रकार कि कोशिकाओं से बना होता है. यह कोशिकाएं शरीर में बदलावों के कारण बढ़ती रहती हैं. ये कोशिकाएं अनियंत्रित तौर पर बढ़ती हैं और पूरे शरीर में फैल जाती हैं.

World Cancer Day 2020: 4 फरवरी को मनाया जाता है विश्व कैंसर दिवस, जानिए इसके लक्षण, कारण और बचाव

World Cancer Day 2020: हर साल 4 फरवरी को मनाया जाता है विश्वि कैंसर दिवस

खास बातें

  • हर साल 4 फरवरी को मनाया जाता है विश्व कैंसर दिवस
  • 1933 में यूनियन फॉर इंटरनेशनल कैंसर कंट्रोल ने की थी शुरुआत
  • कैंसर के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है कैंसर दिवस
नई दिल्ली:

दुनियाभर में आज विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day) मनाया जा रहा है. यह दिन हर साल 4 जनवरी को मनाया जाता है. विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day 2020) के जरिए दुनियाभर के लोगों को कैंसर के प्रति जागरुक किया जाता है क्योंकि यह एक ऐसी बीमारी है, जिसके बारे में लोगों को शुरुआत में पता नहीं चल पाता है. लोगों को इस बीमारी के बारे में तब पता चलता है, जब यह काफी बढ़ जाती है. ऐसा इस वजह से होता है क्योंकि बहुत से लोगों को कैंसर के शुरुआती लक्षणों के बारे में पता नहीं होता है. तो चलिए विश्व कैंसर दिवस 2020 पर आपको बताते हैं कैंसर से जुड़ी वो सभी चीजें, जो आपको मालूम होनी चाहिए. 

World Cancer Day: मुंह का कैंसर हो सकता है खतरनाक, जानें ओरल कैंसर के लक्षण, कारण और रोकथाम के उपाय

विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day) का इतिहास
विश्व कैंसर दिवस सबसे पहले 1993 में स्विट्ज़रलैंड के जिनेवा में मनाया गया था. 1933 में यूनियन फॉर इंटरनेशनल कैंसर कंट्रोल (UICC) द्वारा 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया गया था और इसकी स्थापना की गई थी. 4 फरवरी 1993 को UICC ने कुछ अन्य प्रमुख कैंसर सोसाइटी के सपोर्ट, रिसर्च इंस्टिट्यूट, ट्रीटमेंट सेंटर और पेशेंट ग्रुप की सहायता से इसका आयोजन किया था. 

विश्व कैंसर दिवस का क्या उद्देश्य है?
हर साल विश्व कैंसर दिवस 4 फरवरी को मनाया जाता है. UICC का प्राथमिक उद्देश्य कैंसर पीड़ित व्यक्तियों की संख्या में कमी करना और इसके कारण होने वाली मृत्यु दर में कमी लाना है. साथ ही लोगों में कैंसर के लक्षणों को पहचान पाने के लिए प्रयास करना, उनमें जागरुकता बढ़ाना, लोगों को शिक्षित करना, सरकारी और गैर-सरकारी संगठनों को दुनिया भर में इस बीमारी के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार करना है.

कैंसर क्या होता है
शरीर कई प्रकार कि कोशिकाओं से बना होता है. यह कोशिकाएं शरीर में बदलावों के कारण बढ़ती रहती हैं. जब ये कोशिकाएं अनियंत्रित तौर पर बढ़ती हैं और पूरे शरीर में फैल जाती हैं, तब यह शरीर के बाकि हिस्सों को उनका काम करने में कठिनाइयां उत्तपन्न करने लगती हैं. इससे उन हिस्सों पर कोशिकाओं का गुच्छा सौम्य गांठ या ट्यूमर बन जाता है. इस अवस्था को कैंसर कहते हैं. यही ट्यूमर घातक होता है और बढ़ता रहता है. 

World Cancer Day 2020: बच्चे भी होते हैं कैंसर का शिकार, जानें बच्चों में होने वाले 6 कैंसर और उनके लक्षण

कैंसर के कारण
कैंसर के आम कारणों में धूम्रपान, तम्बाकू, फिजिकल एक्टिविटी की कमी, खराब डाइट, एक्स-रे से निकली रेज़, राडोन रेज़, सूरज ने निकलने वाली यूवी रेज़, इंफेक्शन, फैमिली के जीन आदि होते हैं. 

कैंसर के लक्षण
इसके लक्षण अलग-अलग प्रकार के कैंसर पर आधारित होता है. जैसे ब्रेस्ट कैंसर में निपल्स के आस-पास गांठ होना, मेटास्टैसिस ब्रेस्ट कैंसर में थकान, लंग्स और दिमाग में तेज़ दर्द होता है. लेकिन सबसे आम लक्षणों में मूत्राशय की आदतों में बदलाव, गले में खराश, स्तनों और टेस्टिकल्स का मोटा होना या गांठ पड़ना, खाना निगलने में कठिनाई, शरीर पर मौजूद मस्सों या तिल का रंग और आकार बदलना, अचानक वजन का बढ़ना और कम होना, ज़्यादा थकान, उलटी, बार-बार बुखार और बीमार होना होता है. ​

कैंसर कितने प्रकार के होते हैं 
लगभग 100 से ज़्यादा कैंसर होते हैं. लेकिन सबसे आम स्किन कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, लंग कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर, ब्लैडर कैंसर, मेलानोमा, लिम्फोमा, किडनी कैंसर और ल्यूकेमिया हैं.  

कैंसर का इलाज
डॉक्टर कैंसर की स्टेज, मरीज की बीमारियों का इतिहास और लक्षणों देखकर इलाज करता है. आमतौर पर इसका इलाज सर्जरी, कीमोथेरेपी और रेडिएशन से किया जाता है. 

सर्जरी 
इसमें डॉक्टर इफेक्टिड एरिया को शरीर से अलग करते हैं. जैसे ब्रेस्ट कैंसर होने पर ब्रेस्ट को हटा दिया जाता है. प्रोस्टेट कैंसर होने पर प्रोस्टेट ग्लैंड को निकाल दिया जाता है. सभी तरह के कैंसर में सर्जरी की जरूरत नहीं होती. जैसे ब्लड कैंसर को सिर्फ दवाइयों से ठीक किया जा सकता है.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कीमोथेरेपी
इसमें ड्रग्स या दवाइयों के जरिए कैंसर सेल्स को खत्म किया जाता है. कुछ कीमो में आईवी (नसों में सुइयों के जरिए) से ठीक किया जाता है, कुछ में आपको दवाई दी जाती है. यह दवाइयां पूरे शरीर में अपना असर दिखाती हैं और हर जगह फैले कैंसर को खत्म करती हैं. 

रेडिएशन
इसमें कैंसर की बढ़ती सेल्स को रोककर उन्हें मारा जाता है. कभी-कभार सिर्फ रेडिएशन या फिर सर्जरी और कीमो के दौरान इससे इलाज किया जाता है. इसमें आपके पूरे शरीर को एक्स-रे मशीन में डाला जाता है, और कैंसर सेल्स को खत्म किया जाता है.