NDTV Khabar

आजादी के 70 साल: हार्पर कोलिंस इंडिया ने पेश की इन खास किताबों की सीरीज...

समकालीन प्रासंगिकता के मुद्दे और उन विचारों एवं आदर्शों का जिक्र है और जिनसे देश की अंतरात्मा जागी और इसकी राजव्यवस्था को आकार दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आजादी के 70 साल: हार्पर कोलिंस इंडिया ने पेश की इन खास किताबों की सीरीज...

प्रतीकात्मक चित्र

भारत की आजादी के 70 साल पूरे होने का जश्न मनाने के लिए हार्पर कोलिंस इंडिया किताबों की एक ऐसी सीरीज लेकर आई है, जिनमें समकालीन प्रासंगिकता के मुद्दे और उन विचारों एवं आदर्शों का जिक्र है और जिनसे देश की अंतरात्मा जागी और इसकी राजव्यवस्था को आकार दिया.

भारत में घरेलू नौकरों की हालत को बयां करती है किताब 'मेड इन इंडिया'

प्रकाशक का कहना है कि स्वतंत्रता संघर्ष में शामिल रही महिलाओं से लेकर विभाजन के दर्द तक, उस पीढ़ी के कवियों और देशभक्तों और विभाजन के पहले के समय पर आधारित इन किताबों से पाठकों को भारत के बारे में एक समग्र दृष्टि विकसित करने में मदद मिलेगी.

टिप्पणियां
प्रेमचंद की कहानियां को आज भी भूले नहीं हैं लोग

हार्पर कोलिंस की ओर से लाई गई इन किताबों में एपीजे अब्दुल कलाम की ‘पाथवेज टू ग्रेटनेस’, गुलजार की ‘फुटप्रिंट्स ऑन जीरो लाइन: राइटिंग्स ऑन दि पार्टीशन’, कृष्णा सोबती की ‘जिंदगीनामा’, तवलीन सिंह की ‘इंडियाज ब्रोकेन ट्रिस्ट’, टीसीए राघवन की ‘दि पीपुल्स नेक्स्ट डोर: दि क्यूरियस हिस्ट्री ऑफ इंडियाज रिलेशंस विद पाकिस्तान’ और वेरा हिल्डेब्रैंड की ‘विमेन ऐट वॉर: सुभाष चंद्र बोस एंड द रानी ऑफ झांसी रेजिमेंट’ शामिल हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement