जयपुर साहित्य उत्सव के अमेरिकी संस्करण ने पुस्तक प्रेमियों को मंत्रमुग्ध किया

जयपुर साहित्य उत्सव (जेएलएफ) का अमेरिकी संस्करण इस बार डिजिटल माध्यमों से आयोजित किया गया और यह करीब एक महीने तक चला. इसने पुस्तक प्रेमियों को मंत्रमुग्ध कर दिया.

जयपुर साहित्य उत्सव के अमेरिकी संस्करण ने पुस्तक प्रेमियों को मंत्रमुग्ध किया

जयपुर साहित्य उत्सव के अमेरिकी संस्करण ने पुस्तक प्रेमियों को मंत्रमुग्ध किया

ह्युस्टन (अमेरिका):

जयपुर साहित्य उत्सव (जेएलएफ) (Jaipur Literature Festival) का अमेरिकी संस्करण (American edition) इस बार डिजिटल माध्यमों से आयोजित किया गया और यह करीब एक महीने तक चला. इसने पुस्तक प्रेमियों को मंत्रमुग्ध कर दिया. अमेरिका में यह उत्सव आठ नवंबर को जेएलएफ कोलोरैडो सत्र के साथ शुरू हुआ था, जो आठ से 11 नवंबर और 15 से 18 नवंबर तक चला था. जेएलएफ ह्यूस्टन ऑनलाइन 21-22 नवंबर, जेएलएफ न्यूयार्क ऑनलाइन 23-24 नवंबर और जेएलएफ टोरंटो 27-29 नवंबर को आयोजित किया गया था. पिछले वर्षों के सत्रों के अनुरूप इस बार भी प्रख्यात लेखकों, कवियों, पत्रकारों, विचारकों और नोबेल, पुलित्जर, राष्ट्रमंडल एवं अन्य पुरस्कार विजेताओं ने वर्चुअल माध्यम से विचारों का आदान-प्रदान किया. उन्होंने कोरोना वायरस, अश्वेत लोगों का जीवन मायने रखता है आंदोलन, पर्यावरण, कविता,लोकतंत्र, संगीत, मनोरंजन और सौंदर्य आदि विषयों पर अपने विचार साझा किए.

उपन्यास खत्म नहीं हो रहे, बल्कि आने वाले समय में और अहमियत रखेंगे: बुकर पुरस्कार विजेता फ्लैनागन

Newsbeep

मुख्य वक्ताओं में शशि थरूर, मार्कण्ड आर परांजपे, नमिता गोखले, भारतीय-अमेरिकी लेखिका चित्रा बनर्जी दिवाकरूंज, अमेरिका में भारतीय राजदूत रह चुके नवतेज सिंह सरना, प्रोफेसर होमी के. भाभा, पुलित्जर पुरस्कार विजेता कवि विजय शेषाद्री आदि शामिल थे. उत्सव के शुभारंभ के अवसर पर अमेरिका में नियुक्त भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने कहा था, ‘‘आज जेएलएफ एक साहित्य उत्सव से कहीं अधिक बड़ा कार्यक्रम है-यह इतिहासकारों, कवियों, कलाकारों और संगीतज्ञों, सपने देखने वालों और उन्हें साकार करने वालों को एक मंच पर लाता है.'' ह्यूस्टन में नियुक्त भारतीय महावाणिज्यदूत असीम आर महाजन ने कहा, कि जेएलएफ ह्यूस्टन के तीसरे एवं वर्चुअल सत्र ने विभिन्न विधाओं के प्रख्यात वक्ताओं को एक मंच पर लाया. जेएलएफ सह-निदेशक नमिता गोखले ने कहा कि बदलते समय की चुनौतियों ने उन्हें समृद्ध एवं विविध डिजिटल मंच सृजित करने के लिये प्रेरित किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पेंग्विन प्रकाशन के 30 साल पूरे, जयपुर साहित्य उत्सव में होगा जश्न



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)