NDTV Khabar
होम | साहित्य

साहित्य

  • अपने पिता के साथ बिताए यादगार लम्हों पर है रस्किन बॉण्ड की नई किताब
    मशहूर लेखक रस्किन बॉण्ड की नई किताब दरअसल एक संस्मरण है, जिसमें वह अपने पिता कि साथ बिताए लम्हों को याद कर रहे हैं. बॉण्ड की नई किताब ‘‘लुकिंग फॉर द रेनबो: माई ईयर्स विद डैडी (Looking For The Rainbow: My Years with Daddy) ’’ उनके जन्मदिन यानी 19 मई को जारी होगी. यह पहली बार है जब बॉण्ड ने कोई किताब अपने पिता को समर्पित की है.
  • जानिए करमापा ने क्या लिखा है अपनी किताब ‘इंटरकनेक्टेड: एंब्रेसिंग लाइफ इन अवर ग्लोबल सोसाइटी’ में
    तिब्बती बौद्ध धर्म के पंथ करमा काग्यु के आध्यात्मिक प्रमुख करमापा ने ‘इंटरकनेक्टेड: एंब्रेसिंग लाइफ इन अवर ग्लोबल सोसाइटी’’ नाम की किताब लिखी है जिसका प्रकाशन विस्डम पब्लिकेशन्स ने किया है. इसके वितरक हैं सिमोन ऐंड शूस्टर. किताब में करमापा ने लिखा है, ‘‘भारत में रहना मेरे लिए तिब्बत में रहने से कहीं ज्यादा लाभदायक रहा. अगर मैं अपने सुपरिचित दायरे से बाहर नहीं निकलता तो मैं इतने लोगों से नहीं मिल पाता और न ही इतना कुछ सीख पाया या कर पाता.’’ यह किताब तीन हिस्सों में बंटी है. यह हिस्से हैं- सीइंग दी कनेक्शन, फीलिंग दी कनेक्शन और लीविंग दी कनेक्शन.
  • साहित्यकारों ने की राष्ट्रवाद की निंदा, केंद्र पर लगाया नफरत फैलाने का आरोप
    देश के प्रतिष्ठित साहित्यकारों और विचारकों ने राष्ट्रवाद की निंदा की और केंद्र सरकार पर देश में घृणा और नफरत फैलाने का आरोप लगाया.  देहरादून में आयोजित एक साहित्य महोत्सव के आखिरी दिन एक ही विचारधारा से संबद्ध प्रतिष्ठित साहित्यकारों नयनतारा सहगल, नंदिता हक्सर, हर्ष मंदर और किरन नागरकर ने सार्वजनिक तौर पर राष्ट्रवाद को आड़े हाथों लिया.
  • बुकर पुरस्कार के लिए शॉर्टलिस्ट हुआ इजरायली कॉमिक उपन्यास
    मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार के लिए शॉर्टलिस्टेड छह पुस्तकों में एक इजरायली कॉमिक उपन्यास भी शामिल है. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, डेविड ग्रासमैन का 'अ हॉर्स वॉक्स इनटू अ बार' इजरायली लेखकों की दो किताबों में से एक है, जो 50,000 पाउंड यानी 64,060 डॉलर के पुरस्कार की कतार में है.
  • अलका वासुदेवा की पुस्तक 'कंटेम्परेरी रिफ्लेक्शंस' लॉन्‍च
    राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की हृदयस्थली कनॉट प्लेस में स्थित आक्सफोर्ड बुक सेंटर में देश की प्रख्यात शिक्षाविद व लेखिका अलका वासुदेवा की पुस्तक 'कंटेम्परेरी रिफ्लेक्शंस' का विमोचन किया गया. अलका वासुदेवा की यह पहली किताब है. अलका की तीन और पुस्तकें जल्द ही प्रकाशित होने को तैयार हैं, जिनमें से एक पुस्तक 'द वॉयसेज ऑफ मेनी' ट्रांसजेंडर मुद्दे पर लिखी गई है. यह पुस्तक लिंग परिवर्तन कराने को लेकर चर्चा में रहीं निताशा विश्वास के जीवन पर आधारित है.
  • किताब में खुलासा, पीएम के तौर पर इंदिरा ने बचाया था ‘साइलेंट वैली’ को
    एक नई किताब में कहा गया है कि केरल की ‘साइलेंट वैली’ में एक विशाल पनबिजली परियोजना शुरू करने के कांग्रेस के रूख की अनदेखी करते हुए इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री के तौर पर दुनिया के विख्यात वर्षा वनों में से एक को बचाया था. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश की किताब ‘इंदिरा गांधी : ए लाइफ इन नेचर’ में कहा गया है कि केरल में कांग्रेस और माकपा दोनों ही ‘साइलेंट वैली’ से गुजरने वाली कुंतिपुझा नदी पर एक पनबिजली परियोजना बनाने के पक्ष में थे.
  • योगी आदित्यनाथ ने किया चंद्रशेखर पर लिखी पुस्तक 'राष्ट्रपुरुष चंद्रशेखर-संसद में दो टूक' का लोकार्पण
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर पर 'राष्ट्रपुरुष चंद्रशेखर-संसद में दो टूक' पुस्तक का लोकार्पण किया. विधानभवन के सेंट्रल हाल में आयोजित कार्यक्रम में योगी आदित्यनाथ ने कहा चंद्रशेखर जी के विचार आज भी जीवंत हैं, चंद्रशेखर जी ने समाजवाद को जातिवाद नहीं बनने दिया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा इस देश में कॉमन सिविल कोड होना चाहिए. चंद्रशेखर इस बात के हिमायती थे.
  • विश्व पुस्तक और कॉपीराइट दिवस पर नेत्रहीनों की जरूरतों पर होगा विशेष ध्यान
    संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) इस साल विश्व पुस्तक एवं कॉपीराइट दिवस पर नेत्रहीनों की जरूरतों पर खास ध्यान देगा, जिससे उन्हें मुद्रित पुस्तकें और सामग्री आसानी से उपलब्ध हो सकें.
  • इस्लामाबाद साहित्य महोत्सव आज होगा शुरु
    पाकिस्तान में साहित्य की 70 वर्ष की यात्रा का जश्न मनाने और इसका विश्लेषण करने के लिए आज पांचवा इस्लामाबाद साहित्य महोत्सव (आईएलएफ) शुरू हो रहा है. डॉन ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस की प्रबंध निदेशक अमीना सैयद ने कहा कि तीन दिनों तक चलने वाले आईएलएफ समारोह के सत्र परस्पर संवादात्मक और रोचक होंगे. उन्होंने कहा, "आईएलएफ का लक्ष्य स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय लेखकों और पाठकों को परस्पर संवाद कायम करने, विचारों का आदान प्रदान करने, वार्ताओं, वाद विवाद और पठन कार्यक्रमों में शामिल होने का मौका देना है."
  • कलम के धनी कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने द्रौपदी की जिंदगी पर लिखी नई किताब
    कांग्रेस नेता और कलम के धनी एम. वीरप्पा मोइली ने द्रौपदी के जन्म से लेकर पांच पांडव भाइयों के साथ उनके विवाह और उसके बाद के सफर का खाका अपनी नई किताब में खींचा है.
  • 19वां अंतरराष्ट्रीय मुशायरा ‘जश्न-ए-बहार’ कल दिल्ली में, कई मुल्कों के शायर लेंगे हिस्सा
    राष्ट्रीय राजधानी में 19वां अंतरराष्ट्रीय मुशायरा ‘जश्न-ए-बहार’ शुक्रवार को आयोजित किया जाएगा. इस मुशायरे में देश सहित आधा दर्जन से ज्यादा मुल्कों के शायर हिस्सा लेंगे. इनके अलावा मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला और लोकसभा सांसद शत्रुघन सिन्हा सहित देश की कई जानी-मानी हस्तियां भी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगी.
  •  रसूखदार कैदियों को दी जाने वाली सुविधाओं का सच सामने लाती किताब
    भारत में यदि किसी शख्स को जेल जाना पड़ता है तो उसका अनुभव काफी दर्दनाक होता है. लेकिन क्या यही बात वीआईपी कैदियों के लिए कही जा सकती है ? अमीर और ताकतवर भारतीयों की जेल में बीती जिंदगी के बारे में दिलचस्प किस्से बयान करती एक नई किताब आई है, जिसमें उन सुविधाओं का जिक्र है जो रसूखदार कैदियों को सलाखों के पीछे दी जाती हैं.
  • पीएम ने लोकसभा अध्यक्ष की पुस्तक ‘मातोश्री’ का लोकार्पण किया
    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की लिखी पुस्तक ‘मातोश्री’ का लोकार्पण किया. इसके बाद पुस्तक पर आधारित नाटक का मंचन भी किया गया. यह पुस्तक इंदौर की महारानी अहिल्या बाई होल्कर के जीवन पर आधारित है. पुस्तक के लोकार्पण के पश्चात इस पर आधारित 105 मिनट के नाटक का मंचन बालयोगी सभागार में किया जायेगा. इस दौरान प्रधानमंत्री के अलावा केंद्रीय मंत्री, सांसद एवं अन्य लोग भी उपस्थित थे.
  • वाक : पुरानी आवाजों के साथ कविताओं के नए सुर उभरने के संकेत
    रज़ा फाउंडेशन ने दिल्ली के त्रिवेणी कला केंद्र में ‘वाक’ नाम से एक आयोजन किया. यह भारतीय भाषाओं में रची जा रही कविताओं का द्वैवार्षिक आयोजन होगा. इस साल इसका पहला संस्करण संपन्न हुआ. इसमें 15 से भी अधिक भारतीय भाषाओं के 45 के करीब कवि सम्मिलित हुए. ऐसे समारोह अक्सर अतीत के वैभव पर इतराने के आयोजन बन जाते हैं. इनकी सार्थकता तभी है जब पुरानी आवाजों के साथ नई और सशक्त आवाजें भी सामने आएं जिसमें भविष्य की रूपरेखा दिखे. इस सत्र में इसका संकेत मिला.
  • शरद पवार की आत्मकथा 'अपनी शर्तो पर' लोकार्पित, 'ऑन माय टर्म्स' का है हिंदी अनुवाद
    राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख तथा चार बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और केंद्र में रक्षामंत्री एवं कृषि मंत्री रह चुके शरद पवार की आत्मकथा 'अपनी शर्तो पर' का लोकार्पण मंगलवार को राष्ट्रीय संग्रहालय सभागार में हुआ.
  • पीएम मोदी ने किया सुमित्रा महाजन की किताब का विमोचन
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की लिखी एक किताब का यहां विमोचन किया. महाजन ने मालवा क्षेत्र की 1767 से 1795 तक महारानी रहीं देवी अहिल्याबाई होल्कर के जीवन पर आधारित नाटक 'मातोश्री' कई साल पहले लिखा था.
  • सत्याग्रह: सरकार ने दोबारा प्रकाशित कीं गांधी से जुड़ी 3 किताबें
    सत्याग्रह आंदोलन के 100 वर्ष पूरे होने पर ‘गांधी इन चम्पारण’ समेत महात्मा गांधी से जुड़े तीन मौलिक प्रकाशनों का सरकार ने फिर से लोकार्पण किया है. केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने पुस्तकों का लोकार्पण करते हुए राष्ट्रपिता द्वारा अपनाये गये करूणा और अहिंसा के मूल्यों पर बल दिया.
  • 26 विद्वानों को दिया जाएगा हिंदी सेवा सम्‍मान
    केंद्रीय हिंदी संस्‍थान द्वारा हिंदी सेवा सम्‍मान 2015 पुरस्‍कार की घोषणा कर दी गई है. संस्‍थान के कुलसचिव प्रोफेसर बीना शर्मा का कहना है कि हिंदी के प्रचार और प्रसार के लिए इस बार 12 नए अवॉर्ड भी दिए जा रहे हैं. मई में राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी 26 विद्वानों को पुरस्‍कार देने जा रहे हैं. अवॉर्ड के रूप में विद्वानों को 5 लाख रुपए नकद और सर्टिफिकेट दिया जाएगा. आइए जानते हैं किन विद्वानों को यह पुरस्‍कार दिया जा रहे हैं-
  • राष्ट्रपति ने वीरप्पा मोइली की किताब 'द फ्लेमिंग ट्रेसेज ऑफ द्रौपदी' का किया विमोचन
    राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने महाभारत महाकाव्य को द्रौपदी के परिप्रेक्ष्य से कहने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली की तारीफ की. राष्ट्रपति ने नई दिल्ली में 'द फ्लेमिंग ट्रेसेज ऑफ द्रौपदी' नामक पुस्तक के विमोचन के मौके पर यह बात कही.
  • फिल्म हेरिटेज फाउंडेशन की किताब यस्टर्डेज फिल्म्स फॉर टुमॉरो का विमोचन
    फिल्म हेरिटेज फाउंडेशन की किताब यस्टर्डेज फिल्म्स फॉर टुमॉरो (Yesterday’s Films for Tomorrow) का विमोचन किया गया. इस कार्यक्रम में अभिनेता नसीरुद्दीन शाह, फिल्मनिर्माता श्याम बेनेगल और निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा ने भी शिरकत की. इस किताब में मशहूर फिल्म आर्काइविस्ट दिवंगत पी. के. नायर के लेखन का संकलन है. इसे राजेश देवराज ने संपादित किया है. 
«8910111213141516»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com