नहीं रहीं नृत्य समीक्षक शांता सरबजीत सिंह...

उनके दो बेटों में से एक करमजीत सिंह ने आईएएनएस से कहा, "एक से ढेड़ हफ्तों से वह घर पर हमारे साथ थीं और उनका स्वास्थ्य ठीक था." 

नहीं रहीं नृत्य समीक्षक शांता सरबजीत सिंह...

प्रमुख नृत्य समीक्षक और संगीत नाटक अकादमी की सदस्य शांता सरबजीत सिंह का यहां गुरुवार को अंतिम संस्कार किया गया. परिवार के सदस्यों ने बताया कि वह 81 वर्ष की थीं. शांता सरबजीत का यहां के गुलमोहर पार्क स्थित निवास में बुधवार की शाम लगभग 5.30 बजे निधन हुआ था. परिवार के सदस्यों ने कहा कि उन्हें इससे पहले संक्रमण की शिकायत के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन जल्द ही उन्हें वहां से छुट्टी दे दी गई थी. 

उनके दो बेटों में से एक करमजीत सिंह ने आईएएनएस से कहा, "एक से ढेड़ हफ्तों से वह घर पर हमारे साथ थीं और उनका स्वास्थ्य ठीक था." 

=============
चार श्रेणियों में सम्मानित किया जायेगा 14 संस्कृत विद्वानों को
अच्छी शुरुआत: यूपी सरकार ने लिया प्रेरणादायक पुस्तकें भेंट करने का फैसला

आजादी के 70 साल: हार्पर कोलिंस इंडिया ने पेश की इन खास किताबों की सीरीज...
=============

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा, देश के बंटवारे से पहले रावलपिंडी (आज के पाकिस्तान) में जन्मीं शांता सरबजीत सिंह ने 1970 के दशक में अंग्रेजी अखबार 'द इकॉनोमिक टाइम्स' के लिए आलेख लिखती रहीं. वह पिछले 20 सालों से 'हिंदुस्तान टाइम्स' के लिए बतौर नृत्य समीक्षक लिखती रहीं. 

वह भारतीय महिला प्रेस कोर्प्स की अध्यक्ष भी रही हैं. उनके कलाकार पति सरबजीत सिंह का 2009 में निधन हो गया था.