NDTV Khabar

प्रियंका की चंद्रशेखर से मुलाकात के बाद SP-BSP गठबंधन में हलचल? अखिलेश ने मायावती से की मुलाकात

प्रियंका गांधी की भीम आर्मी के प्रमुख से मुलाकात को उत्तर प्रदेश के राजनीतिक हलके में मायावती पर ‘दबाव ’ बनाने के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि एक दिन पहले ही मायावती ने चुनावी गठबंधन को लेकर कांग्रेस के लिए दरवाजे बंद कर दिये थे.

2.5K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रियंका की चंद्रशेखर से मुलाकात के बाद SP-BSP गठबंधन में हलचल? अखिलेश ने मायावती से की मुलाकात

अखिलेश यादव और मायावती. (फाइल तस्वीर)

लखनऊ:

Lok Sabha Election: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi)की मेरठ में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) से मुलाकात के कुछ घंटे बाद ही समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बुधवार को बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) से मुलाकात की. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की भीम आर्मी के प्रमुख से मुलाकात को उत्तर प्रदेश के राजनीतिक हलके में बसपा सुप्रीमो मायावती पर ‘दबाव ' बनाने के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि एक दिन पहले ही मायावती ने चुनावी गठबंधन को लेकर कांग्रेस के लिए बसपा के दरवाजे बंद कर दिये थे. हालांकि, सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि यह मुलाकात आगामी लोकसभा चुनाव के लिए होने वाली रैलियों, सभाओं और बैठकों के सिलसिले में थी. उन्होंने बताया कि चुनाव करीब आ रहे हैं. होली के बाद चुनाव प्रचार की पूर्णतया शुरूआत कर दी जाएगी. 

जब भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद से मिलने गईं प्रियंका गांधी को अस्पताल में करना पड़ा 15 मिनट इंतजार


साथ ही चौधरी ने बताया कि गठबंधन ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के लिए दो सीटें छोडी हैं और ईमानदारी से पूरा समर्थन किया जाएगा. लेकिन सपा के एक अन्य वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका की भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर के साथ मुलाकात बसपा सुप्रीमो मायावती के फैसले की प्रतिक्रिया है. बता दें, मायावती ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की किसी संभावना से इंकार कर दिया है. सपा नेता ने साथ ही कहा, 'लेकिन मायावती किसी दबाव में नहीं आने वाली हैं... यह गठबंधन दबाव में नहीं आएगा... इसने (गठबंधन) पहले ही कांग्रेस को दो सीटें दे दी हैं.'

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद PM मोदी के खिलाफ वाराणसी से लड़ेंगे चुनाव

दरअसल, चुनावी समर में गैर भाजपाई दलों की यही कोशिश है कि उत्तर प्रदेश में बसपा, सपा और कांग्रेस एक साथ मिलकर चुनाव लड़ें ताकि भगवा पार्टी को सत्ता पर पुन: कब्जा जमाने से रोका जा सके. गौरतलब है कि सपा-बसपा ने कांग्रेस के लिए यूपी में अमेठी और रायबरेली दो ही सीटें छोड़ी हैं.

क्या भीम आर्मी-कांग्रेस का होगा गठबंधन? प्रियंका गांधी ने की चंद्रशेखर आजाद से मुलाकात

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से अस्पताल में मुलाकात की. एक दिन पहले ही आजाद को इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था और प्रियंका उनका हालचाल जानने आयीं थीं. प्रियंका बुधवार शाम अचानक मेरठ के एक निजी अस्पताल में भर्ती भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने पहुंचीं. उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद थे.

रवीश कुमार का ब्लॉग: भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से प्रियंका गांधी की मुलाकात के क्या हैं मायने

इस दौरान मीडिया से बातचीत में प्रियंका गांधी ने इतना ही कहा, ‘चंद्रशेखर से मिलने के लिये अस्पताल आने में कोई राजनीति नहीं है. मैं इस लड़के से मिलने आई हूं, क्योंकि चन्द्रशेखर का संघर्ष मुझे पसंद आया. उसने अपने लोगों के लिए संघर्ष किया है.' जब संवाददाताओं ने इस मुलाकात के राजनीतिक मायने को लेकर सवाल किया तो प्रियंका बोलीं, 'आप इसका राजनीतिकरण करना चाहते हैं तो कीजिए...मैं सिर्फ हाल जानने आयी थी.'

प्रियंका करीब आधा घंटा तक अस्पताल में रहीं. मुलाकात के मायने पूछने पर चंद्रशेखर ने भी कहा, 'मैं सियासी व्यक्ति नहीं हूं. मैं बहुजन समाज के लिए लड़ता हूं. वह कोई राजनीतिक बात करने नहीं आयी थीं. ना कुछ पूछ रहीं थीं.' उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा उनकी तबियत पूछने आई थीं. इससे ज्यादा और कुछ नहीं. चन्द्रशेखर ने कहा, ‘मैं बहुजन समाज के साथ हूं.'

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद को पुलिस ने फिर लिया हिरासत में, ये है वजह

टिप्पणियां

(इनपुट- भाषा)

VIDEO: प्रियंका गांधी ने की चंद्रशेखर आजाद से मुलाकात


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement