Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

छत्तीसगढ़ में टिकट कटने के बाद बीजेपी में बगावती तेवरों की सुगबुगाहट, आज शाम सभी सांसद करेंगे मुलाकात

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी अपनी तैयारियों में जुटी हुई है. हाल ही में तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों के नतीजों के बाद वो कोई भी रिस्क लेने की तैयारी में नहीं दिखाई दे रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
छत्तीसगढ़ में टिकट कटने के बाद बीजेपी में बगावती तेवरों की सुगबुगाहट, आज शाम सभी सांसद करेंगे मुलाकात

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि पार्टी के फैसले का सम्मान

खास बातें

  1. सभी सांसदों के टिकट कटने के बाद पहली मुलाकात
  2. सांसद रमेश बैस के घर पर होगी मुलाकात
  3. सांसदों ने इसे होली मिलन कार्यक्रम बताया
नई दिल्ली:

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी अपनी तैयारियों में जुटी हुई है. हाल ही में तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों के नतीजों के बाद वो कोई भी रिस्क लेने के मूड में नजर नहीं आ रही है. लिहाजा छत्तीसगढ़ में सभी मौजूदा सांसदों के टिकट काट दिए गए. बीजेपी के इस बड़े कदम से छत्तीसगढ़ में बागी सुरों की सुगबुगाहट भी सुनाई देने लगी है. जानकारी मिली है कि छत्तीसगढ़ में सभी मौजूदा सांसद पार्टी के इस फैसले के बाद एक साथ मुलाकात करने जा रहे हैं. जानकारी के मुताबिक यह मुलाकात छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर स्थित सांसद रमेश बैस के घर पर होगी. हालांकि नेताओं का कहना है कि वह होली मिलन कार्यक्रम में शिरकत करने जा रहे हैं. लेकिन पार्टी के बड़े फैसले के बाद सासंदों का यूं मिलना, भविष्य की राजनीति के संकेत दे रहे हैं. 

बीजेपी ने छत्तीसगढ़ में सभी सांसदों के काटे टिकट, पर कर्नाटक में सभी उतारेगी मैदान में- सूत्र


वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह किसी तरह के बागी सुरों को खारिज करते नजर आए. उन्होंने कहा कि पार्टी की सीईसी बैठक में मौजूदा सांसदों को चुनाव नहीं लड़ाने का फैसला किया गया है.  इस चुनाव में नए चेहरों को मैदान में उतारा जाएगा. और पार्टी के सभी नेता इस फैसले का सम्मान करते हैं. 

Lok Sabha Election 2019: छत्तीसगढ़ में सभी मौजूदा BJP सांसदों का कटेगा टिकट, ये है वजह...

टिप्पणियां

बता दें कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने राज्य में 68 सीटें जीती थीं. राज्य में 15 साल शासन कर चुकी भाजपा को 15 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था. दोनों दलों की वोट हिस्सेदारी में 10 प्रतिशत का अंतर था. सूत्रों ने बताया कि भाजपा इस पर भी विचार कर रही है कि मौजूदा सांसदों के परिवार के भी किसी सदस्य चुनाव में नहीं उतारा जाए. पार्टी ने यह मानदंड अपनाया तो पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह की संभावित उम्मीदवारी भी सवालों के घेरे में आ जाएगी, क्योंकि उनके पुत्र अभिषेक सिंह वर्तमान सांसद हैं. 

Video: छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्ज माफ



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली हिंसा: आधी रात CM केजरीवाल के घर के बाहर JNU और जामिया के छात्रों ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने बरसाई पानी की बौछारें

Advertisement